AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 20 जून 2018

बारिश न होने से उमस भरी गर्मी से नही मिल पा रही निजात

फतेहपुर, शमशाद खान । प्रचण्ड गर्मी का कहर थमने का नाम नही ले रहा है। उमस ने लोगोें की हालत खराब कर रखी है। जानलेवा बन चुकी गर्मी इंसानों के साथ-साथ पशु-पक्षियों के लिए भी जानलेवा साबित हो रही है। बारिश न होने के कारण स्थिति और भी विकराल होती जा रही है। तापमान लगातार बढने से लोग बीमारियों की गिरफ्त मे भी आ रहे हैं। गर्मी का यह आलम है कि 12 बजते-बजते सड़कों पर सन्नाटा छा जाता है। रेलवे स्टेशन में यात्रियों को पानी के लिये मारामारी करते देखा जा सकता है। तीनों प्लेटफार्मों मे लगे फ्रीजर यात्रियों को मुंह चिढ़ा रहे हैं। बुधवार को सुबह से ही उमस का असर लोगों को बेहाल किये रहा। सारा दिन पसीना बहाते लोगों की हालत खस्ता रही। भीषण उमस भरी गर्मी के कारण लोगों को रोजमर्रा के काम निपटने में भी राम से काम पड़ रहा है। मानसून की लेट लतीफी अब लोगों को अखर रही है। सुबह से ही हवा के रूख मे आए बदलाव के कारण उमस भरी गर्मी ने लोगों को परेशान कर रखा था। आलम ऐसा कि दिन के 9 बजे से आसमान से आग बरसने लगी। ऊपर से पूर्वा हवा ने उमस बढ़ा दीं। दोपहर होते-होते 1 बजे तक पारा लोगों को छकाने लगा जिससे लोग बुरी तरह परेशान हो गए। सड़कों पर पसरा सन्नाटा गर्मी की इंतहा को बयां करता रहा। घरों मे गर्मी से बचने के उपाय के लिए लगे कूलर-पंखे भी राहत नही दे पा रहे। आए दिन की लोकल फाल्टों ने लोगों को इस कदर परेशान कर रखा है कि रोजमर्रा के काम काज भी भारी पड़ रहे हैं। आवश्यक कार्यों से घरों से बाहर निकलने वाले तेज धूप से बचने के लिए सिर व मुंह को अंगौछे से बांधकर निकलना मजबूरी बना हुआ है। उमस भरी गर्मी से बच्चों को सबसे अधिक दिक्कत है। ग्रामीण क्षेत्रों मंे बिजली की आंख मिचैली और कटौती ने लोगों का सुख चैन छीन लिया है। मौसम की तल्खी और गर्म हवाओं के थपेड़ों के चलते दोपहर में सड़कों की हलचल थम सी जाती है। पुरवई चलने के कारण बढ़ी गर्मी व उमस के चलते जनजीवन बेहाल रहा लेकिन मौसम के जानकार स्थानीय लोगों ने मौसम मे आए इस बदलाव को गर्मी से जल्द निजात मिलने का संकेत बताया है। फिलहाल लोग सूरज की तपन औरगर्म हवासे पशु-पक्षी भी झुलसने को विवश हैं। जहां पानी नजर आता है वहीं पशु गर्मी से बचने के लिए घुस जाते हैं। आलम यह है कि अब प्रचण्ड गर्मी लोगों के जी का जंजाल साबित हो रही है। मानसून की लेट लतीफी बनी रही तो स्थिति और भी भयावह हो सकती है। फिलहाल जिस तरह से गर्मी का कहर टूट रहा है उससे लोग अब यही कह रहे हैं बारिश हो जाये तो कुछ राहत मिले लेकिन बेरहम हो चुकी गर्मी किसी भी तरह से रहम करने को तैयार नही है। 

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट