AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

मंगलवार, 23 मई 2017

डाक्टरों को नहीं मिल रहा है कमीशन, केन्द्रीय औषधायलयों पर बना रहता सन्नाटा

फतेहपुर, शमशाद खान । सरकार गरीब मरीजों को बेहतर से बेहतर स्वास्थ्य लाभ देने के लिये अपने स्तर से सस्ती से सस्ती दवाओं का प्रबन्ध कर रखा है। इन दवाओं के लिए अपने केंन्द्र भी अलग से खोल रखे है। लेकिन इन खुले केन्द्रों पर मरीजों का आना जाना न के बराबर है। और न ही सरकारी डाक्टर दवा केन्द्रों की जानकारी मरीजों व उनके तिमारदारों को नहीं दी जाती है। उसके पीछे दवाओं पर मिलने वाले कमीशन की बात खुलकर सामने आई है वहीं डाक्टरों की सलाह न मानने पर कहीं न कहीं मरीज भी घबरा रहा है। इन केन्द्रों में दवा की खरीदारी महज जागरूक मरीज व उनके तीमारदार पहॅुचते है। 
केन्द्र सरकार ने गरीब तबके के साथ साथ आम मरीजों की जेबों को देखते हुए केन्द्रीय औषधालय का प्रबन्ध कर रखा है। केन्द्रीय औषधालय से इन दवाओं की खरीदारी करने पर जहाॅ दवाओं की क्वालिटी बेहतर होती है तो वहीं कीमतों पर भी काफी राहत मिलती है। सरकार ने उक्त ब्यवस्था का प्रबन्ध दवाओं में गड़बड़ी के साथ साथ बाजार में मनमाने रेट वसूल किये जाने का मामला छुपा रहा है। सरकारी डाक्टर इन औषधालयों की जानकारी मरीजों व उनके तिमारदारों को नहीं दी जा रही है। जानकारी न देने के पीछे कमीशन बाजी का मामला बताया जा रहा है। कंेन्द्रीय औषधालय को संचालित करने वाले लोगों का कहना है कि जा कमीशन डाक्टरों को मिलता है वह कमीशन कंेन्द्रीय औषधालय से डाक्टरों को नहीं मिलता है बल्की मरीज व इनके तिमारदारों को पैसों पर राहत पहॅुचायी जाती है। यही वजह है कि डाक्टर सरकार की ओर से खोले गये औषधालय की जानकारी नहीं दी जा रही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट