AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

गुरुवार, 11 मई 2017

शिक्षकों ने प्रदर्शन कर समस्याओं को लेकर मुख्यमंत्री से लगायी गुहार

फतेहपुर, शमशाद खान । उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ ने आज अपनी समस्याओं की मांगों को लेकर जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय मे एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया तथा बाद मे मांगों के निस्तारण को लेकर मुख्यमंत्री के नाम सम्बोधन मांग पत्र जिलाधिकारी को सौंपा।
जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय मे उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ द्वारा आयोजित किये गये धरने को सम्बोधित करते हुए जिलाध्यक्ष कमल सिंह चैहान ने कहा कि उ0प्र0 मे माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा मान्यता प्राप्त लगभग 18 जहार ऐसे स्ववित्त पोषित (वित्त विहीन) विद्यालय है जिनमे कार्यरत शिक्षकों को मात्र अंश कालिक शिक्षक कहा जाता है जबकि वास्तव मे यह भी पूर्ण कालिक रूप से कार्य करते हैं। उन्होंने कहा कि उनकी कोई सेवा दशाएं निर्धारित नही है तथा वेन भी सेवायोजकों की इच्छा पर निर्भर है। संगठन को उपलब्ध जानकारी के अनुसार यह शिक्षक बंधुवा मजदूर की तरह मालिक के मनचाहे वेतन पर कार्य करने के लिए बाध्य है। उन्होंने कहा कि संगठन मांग करता है कि अंशकालिक शिक्षकों का विधिक व्यवस्था द्वारा पूर्ण कालिक घोषित करके समान कार्य के समान वेतन के सिद्धांत पर आधारित वेतन का भुगतान सुनिश्चित कराया जाए। उन्होनें कहा कि उ0प्र0 के शिक्षा कार्यालयों मे व्याप्त भ्रष्टाचार चश्मसीमा पर शिक्षकों की नियुक्ति सम्बन्धी प्रक्रिया हो अथवा उन्हें प्रतिमाह वेतन भुगतान की विधिक व्यवस्था के अन्र्तगत वेतन भुगतान हो कोई भी भ्रष्टाचार से मुक्त नही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश भर मे शिक्षक समुदाय पुरानी पेंशन की बहाली की मांग कर रहा है तथा नवीन पेंशन योजना पूर्णतया आकर्षण विहीन है, जहां प्रभावी है वहां शिक्षकों एवं कर्मचारियों के वेतन से जो कटौती होती है तथा उसके साथ जो राजकीय अंश सम्मिलित किया जाता है वह कुछ धनराशि कहां और किस खाते मे जमा की जाती है इसकी जानकारी सम्बन्धित शिक्षक एवं कर्मचारी तक नही पहुंच पाती है। इस मौके पर अतुल सिंह यादव, भानु प्रताप सिंह, प्रदीप सिंह चैहान, महेन्द्रपाल सिंह राठौर, सुधीर कुमार मौर्य, अमित कुमार सिंह, नरेन्द्र सिंह, भरत सिंह, सर्वेश, बलराम, चन्द्रभवन, महेन्द्र सिंह, योगेन्द्र द्विवेदी, विकास शुक्ला, धर्मेन्द्र सिंह, डा0 विजय शंकर मिश्र समेत अनेक शिक्षक मौजूद रहे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट