AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शुक्रवार, 5 मई 2017

गैस एजेन्सी के मालिक हो रहे हैं माला माल, उपभोक्ता हो रहा है कंगाल




फतेहपुर, शमशाद खान । सरकार की पेट्रोल पम्पांे की घटतौली पर नजर तो पड़ गयी है और इनके खिलाफ अभियान भी चलाया जा रहा है। गैस एजेन्सी मालिकों द्वारा उपभोक्ताओं को खुलेआम लूटने का सिलसिला जारी है इस और भारत व प्रदेश सरकार पूरी तरह से मौन धारण किये हुए हैं। गैर एजेन्सी मालिकों से प्रतिमाह जिले के कई आलाधिकारियों को मोटी रकम चढ़ावे के नाम पर मिलती है तो उनको मौन सी आवश्यकता पड़ी है कि वह इनके खिलाफ कार्यवाही करेगे। यहां पर वही कहावत पूरी तरह से चरितार्थ हो रही है कि अपना काम बनता लुटती रहे जनता। गैस एजेन्सी के मालिक उपभोक्ताओं की अवैध कमाई से माला माल हो रहे हैं और उपभोक्ता कंगाल हो रहा है।
शहर मे नागरिकोें की सुविधा के लिए सरकार ने इण्डेन गैस सर्विस की दो एजेन्सियां दे रखी है जिनसे शहर के लोगों को गैस सिलेण्डर होम डिलेवरी करके पहुंचाया जाता है किन्तु होम डिलेवरी के नाम पर उपभोक्ताओं को खुले आम एजेन्सी के मालिकों द्वारा लूटने का सिलसिला पिछले काफी समय से चलता आ रहा है। इस तरफ न तो आयोसी की नजर पड़ रही है और नाही जिले के आलाधिकारियों की। गैस एजेन्सी के मालिकों द्वारा उपभोक्ताओं को लूटे जाने के विरोध मे कई बार शहरी लोगों ने जिलापूर्ति अधिकारी से लेकर जिलाधिकारी तक से शिकायत कर चुके हैं किन्तु प्रत्येक माह जिले के एक आलाधिकारी को मोटी रकम चैथ के नाम पर गैस एजेन्सी मालिक प्रत्येक माह पहुंचाते हैं तो उपभोक्ताओं की शिकायत तो वैसे भी मोटी रकम के सामने बौनी शाबित हो जायेगी। गैस सिलेन्डर मे होम डिलेवरी का चार्ज जुड़ा होने के बाद भी होम डिलेवरी करने वाले सेल्समैन अपने मनमाने तरीके से उपभोक्ताओं से ठगाही करते हैं। होम डिलेवरी का पैसा सीधे गैस एजेन्सी मालिक की जेब मे जाता है। इतना ही नही गैस एजेन्सी से मिलने वाली नीले कलर की कापी मे कभी भी कोई डिलेवरी मैन गैस पहुंचाने तथा कितने का सिलेन्डर है इस बात को अंकित नही करता है। क्यों कि मरता क्या न करता आखिरकार वह मालिक के निर्देशों का भला पालन क्यों नही करेगा। गैस एजेन्सी मालिकों ने साफ निर्देश दे रखे हैं कि किसी भी उपभोक्ता के यहां नीली कापी मे किसी प्रकार की कोई बात मत अंकित करना नही तो नौकरी से हांथ धो बैठेगे। इतना ही नही इण्डेयन आयल कार्पोरेशन शहर के शादीपुर मोहल्ले मे स्थित फतेहपुर इण्डेन गैस सर्विस और मुराइन टोला पुलिस चैकी के समीप स्थित ललिता इण्डेन गैस सर्विस एजेन्सी के मालिकों को गैस सिलेन्डर का वजन नापने वाला काटा भी प्रत्येक होम डिलेवरी करने वाले सेल्समैन को उपलब्ध करा रखा है किन्तु किसी भी सेल्समैन द्वारा उपभोक्ता के घर सिलेन्डर पहुंचाने के समय वजन नापने वाले कांटे का प्रयोग नही किया जाता है। प्रयोग किया भी क्यों जाये क्योंकि उपभोक्ताओं को मिलने वाले सिलेन्डर मे गैस की मात्रा कम होती है इसलिए सेल्समैन वजन नापने वाला कांटा ही लेकर अपने साथ नही चलता है। गैस एजेन्सी मालिकों के द्वारा कब तक उपभोक्ता लुटता रहेगा या फिर इनके खिलाफ पेट्रोल पम्प मालिकों के तरीके जांच पड़ताल की जायेगी या फिर उपभोक्ता इनकी अवैध उगाही का शिकार होता रहेगा यह तो आने वाला समय ही बता पायेगा। शहरी नागरिकों ने जिले के तेज तर्रार जिलाधिकारी से मांग करते हुए कहा कि गैस एजेन्सी मालिकों द्वारा ही डिलेवरी के नाम पर की जा रही मनमानी पर शीघ्र अंकुश लगाया जाये और दोनो गैस एजेन्सियों मे गैस सिलेन्डर का मूल्य होम डिलेवरी चार्ज सहित का बैनर अथवा बोर्ड लिखवाया जाये जिससे उपभोक्ता ठगी का शिकार होने से बच सके।  


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट