AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 3 मई 2017

योगी सरकार में पत्रकारो के सुरक्षा की दावों की, भाजपाईयो ने उड़ाई धज्जियाँ

चन्दौली, अजय राय - यूपी में पत्रकारों की सुरक्षा के लिए सीएम चाहे कितने भी निर्देश दिए हो लेकिन मीडिया से बदसुलूकी थमने का नाम नही ले रही है। ताजा मामला चंदौली जिले का है जहां मुगलसराय कोतवाली में कवरेज कर रहे पत्रकारों से भाजपाइयो ने बदसुलूकी शुरू कर दी और हाथापाई पर उतर आये। ये सारा मामला कोतवाल के सामने होता रहा, लेकिन भाजपाइयों की दबंगई के आगे पुलिस मूकदर्शक बनी रही। दरअसल मामला मारपीट व् दबंगई की कवरेज से जुड़ा है, जहाँ कुछ बिगड़ैल रईसजादों ने दाहसंस्कार कर के लौट रहे लोगो की जमकर धुनाई की और मामला जब कोतवाली पंहुचा तो भाजपा के पदाधिकारी समेत काफी संख्या में समर्थक भी वहां पहुचकर दबाव बनाने लगे और मामले की लीपापोती करने में फेल हुए तो मीडिया से ही उलझ गए।
 जिले का भाजपा जिला कोषाध्यक्ष व् सांसद डा महेंद्र नाथ पांडेय के नगर पालिका प्रतिनिधि अखिल पोद्दार है जिसपर अपने साथियो के साथ मिल कर दाहसंस्कार से लौट रहे लोगो से मारपीट का आरोप है। अब ज़रा कोतवाली में इनकी हनक देखिये..मारपीट में घायल युवक जमीन पर घंटे भर बेहोश पड़ा रहा और आरोपीजन पुलिस के सामने कुर्सी पर मेहमान बने बैठे है।बैठते भी क्यों नही,जब सैया भये कोतवाल तो डर काहे का...
दरअसल मामला कुछ बिगड़ैल रईसजादों की दबंगई से जुड़ा है जिनलोगों ने एक के बाद एक करके कई ड्राइवरों को पीटा।मामला तब बिगड़ा जब रईसजादों ने दाहसंस्कार कर लौट रहे लोगो की भी पिटाई कर दी। मामले की शिकायत लेकर जब पीड़ित पक्ष पुलिस पिकेट पहुचा तो आरोपी पुलिस से भी भिड़ गये और सड़क पर काफी बवाल काटा।जिसके बाद पुलिस दोनों पक्षो को कोतवाली ले आयी।कोतवाली में जो नजारा दिखा वो तस्वीरे काफी शर्मसार करने वाली थी।एक तरफ घायल को बेहोशी की हालत में घंटे भर जमीन पर लिटाये रखा तो दूसरी तरफ आरोपी कुर्सी पर बैठ कर पुलिस पर दबाव बनाने का प्रयास कर रहे थे। 
पुरे मामले में भाजपाइयों ने न सिर्फ पार्टी की साख गवाई बल्कि पत्रकारों को सम्मान देने वाले सीएम योगी के दावों की भी हवा निकाल दी। देखने वाली बात यह होगी कि मामला सामने आने के बाद पार्टी इन गैर अनुशासित कार्यकर्ताओ पर अंकुश लगाती है या इन्हें दबंगई करने के लिए खुली छूट दे देती है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट