AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

मंगलवार, 27 जून 2017

बैंक खाता खोल, खुद को लुटा महसूस कर रहा है ग्राहक

कानपुर, आलोक कुमार - केंद्र सरकार द्वारा 8 नवम्बर 2016 को नोट बंदी से पहले हर व्यक्ति को बैंक से जोड़ने की पहल की गयी, जो कि कही हद तक सफल भी रही। कई करोड़ लोगो ने बैंक खाते से जुड़ कर अपनी खून पसीने की कमाई जमा की, जिसमे अरबो रूपए बैंको के पास जमा भी हुए।  अब वो अपनी जमा पूंजी को सुरक्षित समझ रहे थे, कि कोई उसको लूट नहीं सकता और जरुरत के समय उनके काम आएगी। किन्तु 2017 के मध्य आते - आते बैंको ने अपनी पॉलिसी ही बदल कर बहुत सारे नियम लागू कर दिए, बिना अपने ग्राहक को जानकारी दिए, आवश्यकता होने पर जब वो ग्राहक इस भरोसे से बैंक पहुँच रहा है, कि इतनी पूंजी उसने अपने बैंक खाते में जमा कर रक्खी है इससे उसका काम चल जायेगा। किन्तु जब वो निकाल नहीं पाता और जानकारी करने पर विभिन्न चार्ज में उसको अपना पैसा कटने की जानकारी होने पर खुद को लुटा महसूस कर रहा है। नई बैंकिंग पॉलिसी,  केंद्र सरकार की डिजिटल मनी पॉलिसी की धज्जिया उड़ा रही है।            

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट