AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 28 जून 2017

नौकरशाहों की लूट के चलते अभी भी कई गांव विकास से वंचित

फतेहपुर, शमशाद खान । भले ही देश आज आजादी के सत्तरवें पायदान पर खडा हो परन्तु आज भी खागा तहसील के तमाम गांवो के बाशिन्दें गुलामो वाला जीवन व्यतीत कर रहे है। हर तरफ नौकरशाहो की लूट मची हुयी है। चैमुखी विकास के दावे खोखले साबित हो रहे है। यही कारण है कि आज जहा प्रदेश सरकार के आदेशानुसार नगरीय एवं शहरी इलाकों को विकास की मुख्य धारा से जोडने का प्रयास किया जा रहा है वही प्रदेश के तमाम ग्रामीण इलाके आज भी विकास की दौड में बहुत पीछे है जिनकी सुधि लेने वाला भी नही है विजयीपुर विकास खण्ड के लगभग आधा दर्जन गांवो में आजादी के सत्तर वर्ष बाद भी कोई विकास नजर नही आता यहा के निवासी मजबूरन आज भी नारकीय जीवन जीने केा मजबूर है तहसील क्षेत्र के विजयीपुर विकास खण्ड के गाव इटोलीपुर, रामपुर, मठेठा, अहमदगंज तिहार, टेसाही, बुजुर्ग एवं टेसाही खुर्द आदि दर्जनों गांवो के लोगो ने नीचे से ऊपर तक सरकारें बनाते रहे है किन्तु इस भोले भाले ग्रामीणो केा कुछ भी हासलि नही हुआ इन गांवो के विकास के लिये स्वीकृत धन नौकरशाहो की जेब में चला गया विजयीपुर विकास खण्ड के अन्तर्गत आने वाले इटोलीपुर, रामपुर, मठेठा, अहमदगंज तिहार, टेसाही, बुजुर्ग एवं टेसाही खुर्द आदि गांवो के लोगो केा आवागमन की सुविधा हेतु पक्की सडके तो दूर की खडजे और घरो से निकलने वाले गन्दे पानी को एक निश्चित स्थान तक पहुचाने वाली पक्की नाली पीने के लिये शुद्ध पानी देने वाले कृत्रिम उपकरणो से वचित रहते हुये नारकीय जीवन जीना पड रहा है। लगभग सभी गलियारो में भीषण जल भराव और कीचड भरा रहता है हर जगह गन्दगी का अम्बार लगा हुआ है तमाम लोगो के पास रहने के लिये घर नही है गन्दगी के कारण मच्छरो का प्रकोप से फैलने वाली मलेरिया, टाइफाइड, डेगू, चिकनगुनिया जैसी सक्रामक एवं जानलेवा बीमारियो का खतरा बना रहता है किन्तु इन सब हालात मे भी इनकी सुधि लेने वाला कोई भी नही है जिससे कि इनकी समस्या का समाधान हो सके अधिकारियो एवं जन प्रतिनिधियों ने इन्हे झूठे आश्वासन दिये है। अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियो की उदासीनता के चलते विकास की राह मीलो दूर है ग्रामीणो ने नाराजगी व्यक्त करते हुये सम्पन्न विधानसभा चुनाव के दौरान चुनाव बहिष्कार की रणनीति बनायी थी। तब विकास का भरोसा दिलाया गया था प्रत्याशी से लेकर जिला प्रशासन ने आश्वासन दिये। नतीजा कुछ भी नही निकला। गावं के शिवशंकर पाल, शिवशरण पाल, जयसिह यादव, धीरेन्द्र सिह, अम्बोल, नरेश सिंह फूल सिंह, अमर सिह आदि लोगो ने प्रदेश सरकार और क्षेत्रीय विधायिका सहित ग्राम प्रधान को कोसते हुये कहा कि सब गडबड है रही बात अधिकारियेां की तो सब अपनी-अपनी झोली भरने में मशगूल है यही कारण है कि गांव वालो की शिकायते भी नही सुनी जा रही है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट