AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 28 मार्च 2018

बैंक कर्मियों ने हड़ताल समाप्त कर आन्दोलन की दी चेतावनी

फतेहपुर, शमशाद खान । तीन दिवसीय हड़ताल के अंतिम दिन कर्मचारियों ने जमकर नारेबाजी करते हुए हड़ताल को समाप्त कर काम पर वापस लौट गये और शीघ्र ही मांग पूरी न होने पर वृहद आन्दोलन की चेतावनी दी। यूनाइटेड फोरम आॅफ आरआरबी यूनियन्स के आवाहन पर तेरह सूत्रीय मांगों को लेकर बड़ौदा व ग्रामीण बैंकों के कर्मचारियों द्वारा किये गये हड़ताल मे लगभग 500 करोड़ का लेनदेन तीन दिनों मे प्रभावित हुआ। साथ ही उपभोक्ताओं को इधर उधर भड़कना पड़ा।
अवगत हों कि समान पेंशन, दैनिक भोगी व अस्थाई कर्मचारियों का नियमतीकरण किये जाने सहित तेरह सूत्रीय मांगों को लेकर यूनाइटेड फोरम आॅफ आरआरबी के बैनर तले क्षेत्रीय ग्रामीण एवं बड़ौदा बैंक कर्मचारियों ने तीन दिवसीय हड़ताल के अन्तिम दिन अपनी मांगों को लेकर नारेबाजी एवं प्रदर्शन करते हुए धरना समाप्त कर दिया और मांग न पूरी होने पर शीघ्र ही आन्दोलन की चेतावनी देते हुए काम पर वापस लौट गये।  आईटीआई रोड़ स्थित बडौदा बैंक मे कर्मचारियों ने हड़ताल के अन्तिम दिन कहा कि लम्बे समय से तेरह सूत्रीय मांगों को लेकर आवाज बुलंद की जा रही है लेकिन इसके बावजूद सरकार मांगों पर कोई ध्यान नही दे रही है। वक्ताओं ने कहा कि अन्य बैंकों की भांति ग्रामीण व बड़ौदा बैंक के कर्मचारियों को पेंशन नही मिल रही। इतना ही नही पेंशन न मिलने के चलते बैंक कर्मचारियों को सेवानिवृत्त होने के बाद खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है जबकि ग्रामीण व बड़ौदा बैंक के कर्मचारी अन्य बैंकों की भांति कार्य करते हैं। वक्ताओं ने कहा कि करीब 15 हजार दैनिक वेतनभोगी व अस्थाई कर्मचारी काम कर रहा है जिसका नियमतीकरण नही किया जा रहा। वक्ताओं ने कहा कि मांगों को लेकर तीन दिवसीय हड़ताल की गयी। इसके बावजूद शीघ्र ही उनकी मांगें नही मांगी गयी तो संगठन के निर्देशानुसार आगे की रणनीति तैयार की जायेगी। बैंक कर्मचारियों ने मृतक आश्रित योजना अगस्त 2014 से आरआरबी में लागू किये जाने, छठवे वेतन समझौते में कम्प्यूटर वेतन वृद्धि आरआरबी को प्रदान किये जाने, स्थायी कर्मचारियों को वेतन व सुविधाओं में समानता प्रदान किये जाने, मित्रा कमेटी को समाप्त कर मेन पावर निर्धारण हेतु उचित नीति आरआरबी के अनुसार बनाये जाने, केन्द्रीय संगठनों को मान्यता दिये जाने, नोटबंदी के अवधि में ओवरटाइम का भुगतान किये जाने की मांग की। धरने की अध्यक्षता आरए सिद्दीकी व संचालन सौरभ गुप्ता ने किया। इस मौके पर ़ऋषि कुमार, अनुराग विश्वकर्मा, संदीप, कौशल किशोर, अमित, कुलदीप कुमार, देवराज, एसपी यादव, कृष्ण चन्द्र, शिवशंकर, अरूण शुक्ला, सुखसागर आदि कर्मचारी मौजूद रहे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट