AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

रविवार, 27 मई 2018

बीजेपी विधायक ने एसडीओ को मारा थप्पड़, शहर की विद्युत आपूर्ति हुयी ठप्प

फतेहपुर, शमशाद खान। भाजपा के सदर विधायक विक्रम सिंह पर विद्युत विभाग के एसडीओ अवनीश अग्रहरी ने मारपीट का गंभीर आरोप लगाते हुए पुलिस द्वारा विधायक के ऊपर मुकदमा न लिखे जाने से नाराज कर्मचारियों ने धरना प्रदर्शन कर शहर की विद्युत आपूर्ति बंद कर दी जिससे भीषण गर्मी मे लोग बेचैन हो उठे।
रविवार को हाईडिल कालोनी मे उत्तर प्रदेश विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के तत्वाधान मे बीजेपी विधायक विक्रम सिंह द्वारा एसडीओ अवनीश अग्रहरी के साथ मारपीट किये जाने और विधायक के खिलाफ पुलिस द्वारा कोतवाली मे मुकदमा न दर्ज किये जाने से आक्रोशित कर्मचारियों ने सुबह 9 बजे से ही विद्युत आपूर्ति बन्दकर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया जिसके बाद एसडीएम व सीओ नाराज कर्मचारियों को समझाने के लिए कई बार प्रयास किया लेकिन आक्रोशित कर्मचारियों ने विधायक पर मुकदमा दर्ज किये जाने तक धरना प्रदर्शन जारी रखने की बात कई। वहीं पीड़ित एसडीओ का कहना रहा कि सदर विधायक विक्रम सिंह ने उन्हें फोन करके अपने आवास बुलाया और लाइट क्यों नही आ रही है की वजह पूंछी जिसके बाद अचानक से विधायक ने उन्हें गाली गलौज के साथ थप्पड़ मार दिया और अभद्रता की। जिसके बाद वह विधायक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए कोतवाली गये जहां उनके ऊपर समझौता करने का दबाव बनाते हुए मुकदमा लिखने से इंकार कर दिया गया जिससे नाराज होकर साथी कर्मचारियों ने अभिशाषी अभियंता प्रथम प्रभाकर पाण्डेय की मौजूदगी मे शहर की विद्युत आपूर्ति बंदकर धरने पर बैठ गये हैं और जब तक विधायक के ऊपर कार्यवाही नही होती तब तक धरना जारी रहेगां। वहीं विधायक द्वारा एसडीओ को थप्पड़ मारने से पूरा दिन शहर की बिजली आपूर्ति ठप्प होने से भीषण गर्मी मे लोगों को जहां अनेक समस्यायें हुयी वहीं पानी के लिए त्राहि-त्राहि मची रही। वहीं राज्य मुख्यालय से बिजली मामले का संज्ञान लिया गया तो लगभग 9 घंटे बाद विभाग के अधिकारियों ने तत्काल आपूर्ति बहाल कर दी और विधायक के खिलाफ खोला गया मोर्चा धरा की धरा रहा गया। इस मौके पर अधिशाषी अभियंता प्रभाकर पाण्डेय, खागा एसडीओ आरएन सिंह, अधिशाषी अभियंता मीटर केसी मौर्या, एसडीओ द्वितीय नितिन अग्रवाल, वर्कशाप मनोज कुमार, फूलचन्द्र भारती, प्रमोद कुमार, धीरेन्द्र कुमार, बशीर अहमद, नरेन्द्र नाथ, विवेक मौर्या, रवि कुमार, आरएन यादव, उमाकांत अग्निहोत्री आदि कर्मचारी मौजूद रहे। वही इस मामले मे सदर विधायक विक्रम सिंह ने सभी आरोपों को गलत ठहराया और बिजली विभाग की मनमानी पर सवाल उठाते हुए कहा कि कर्मचारियों को अगर लगता है तो मेरे खिलाफ कानूनी कार्यवाही करे जनता काो इस तरह परेशान न करें। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट