AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

रविवार, 17 जून 2018

अवैध होर्डिंग का पूरे शहर में फैला संजाल

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता -  आंधी और बारिश का मौसम आने को है लेकिन और शहर की छतों पर दो हजार से अधिक संख्या में लगी बडी-बडी अवैघ होर्डिंग लोगो की जान का खतरा बनी हुई है। पिछली बार भी होर्डिंग गिरने के बाद अधिकारी जागे थे और अवैध होर्डिंगो को हटाने के लिए कार्यवाही भी शुरू की गयी थी लेकिन मामला फिर ठण्डा हो गया। इसी प्रकार पिछले सप्ताह में आयी आंधी के दौरान एक बडी होर्डिंग गिरी गयी जिससे दहशत फैल गयी। पैसो की लालच में मकान मालिक अपनी छतों पर होर्डिंग लगाने की अनुमति दे देता है लेकिन होर्डिंग लगाने के मानकों को ताक पर रख दिया जाता है। यदि शहर में तेज हवा या आंधी आती है तो यही बडी-बडी होर्डिंग लोगो की जान के लिए खतरनाक साबित हो सकती है।
                 बतातें चले कि पूरे शहर की हजारो छतों में अवैध होर्डिंगो को संजाल फैला हुआ है। अधिकारियो की लापरवाही की वजह से इन होर्डिंग लगाने वालो पर किसी प्रकार की कार्यवाही नही शुरू हो सकी है। नगर निगम द्वारा भी मकानों पर लगी इन होर्डिंगो को अवैध बताया गया था इसके साथ ही मकान मालिकों को होर्डिंग हटाने के आदेश दिये गये थे बावजूद इसके अभी भी छतों पर होर्डिंग लगी हुई है जो विभागीय लापरवाही को दर्शा रही है। आदेशों के बाद ठोस कार्यवाही न होने से मकान मालिक भी इस ओर ध्यान नही दे रहें है। इतना ही नही एक ओर जहां होर्डिंग लगाने के लिए ठेकेदार नयी छतों को तलाश रहे है वहीं मकान मालिक भी पैसो की लालच में होर्डिंग वालो तक पहुंच रहे है। कुछ मकान मालिक ऐसे है जिनका कहना है कि उनकी छत खाली पडी रहती है और यदि होर्डिंग लग जाती है तो उनकी कुछ आमदनी शुरू हो जायेगी, लेकिन यही होर्डिंग आंधी के समय खतरनाक साबित होती है। होर्डिंग का या सारा खेल विभागयी अधिकारियों की देख-रेख में होता है। अधिकारियों को पैसा लिखाकर ठेकेदार अवैध रूप से शहर की छतों पर होर्डिंगो को टांग रहे है और लोगो की जान के साथ खिलवाड कर रहें है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट