AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शुक्रवार, 22 जून 2018

भीषण गर्मी मे बिजली की कटौती लोगों को कर रही बेचैन

फतेहपुर, शमशाद खान । मुख्यमंत्री के आदेशांे को हवा मे उड़ाने मे लगे विद्युत विभाग के अधिकारी जिला मुख्यालय को 24 घंटे बिजली मुहैया कराने के दावे हवा मे है। शहर वासियों को दस घंटे बत्ती बमुशकिल मिलना भी मुशीबत बना हुआ है। शहर के ज्यादातर विद्युत उपकेन्द्र रामभरोसे चलाये जा रहे हैं। जर्जर मशीने खतरे का सबक बनी हुयी हैं। भीषण गर्मी मे जिस तरह से बिजली की आंखमिचैली व रात्रि कटौती की जा रही है उससे आम जनमानस मे आक्रोश उत्पन्न हो रहा है। लोग बिजली कटौती से जहां बेहाल हैं तो वहीं छोटे-छोटे बच्चे भी पूरी तरीके से बेचैन रहने को मजबूर हैं। जर्जर मशीने खतरे का सबक बनी हैं। हाइडिल कर्मी जहां इनकी हालत से सहमकर काम करने को मजबूर हैं तो अफसर इन्हें बदलाने की सुधि नही ले रहे हैं। नतीजा शहरियों के हिस्से मे दावे के सापेक्ष आधी बिजली नही मिल पा रही है। मौजूदा समय सबसे खराब स्थित मुराइनटोला और आबूनगर उपकेन्द्र से जुड़े उपभोक्ताओं की है। इन्हें न दिन में सुकून मिल पा रहा है और न ही रात मे चैन। हैरत इस बात की भी है कि प्रशासन भी हाइडिल पर शिकंजा क्यों नही कस रहा है। मुराइनटोला विद्युत उपकेन्द्र मे पांच दिन पहले पैनल ब्लास्ट हो गया था। इस पैनल के ब्लास्ट करने पर उपकेन्द्र की विद्युत आपूर्ति बहाल करने के लिए आधा लोड़ हरिहरगंज उपकेन्द्र और आधा ज्वालागंज फीडर पर तो डाल दिया गया लेकिन अभी तक पैनल पर काम नही हुआ। उधर अंदरखाने इस दिशा मे चल रहे खेल की बात करें तो बजाय पैनेल नया मंगवाने के ब्लास्ट पैनेल की मरम्मत कराने की कवायद ही चल रही है। ऐसे मे इस उपकेंद्र की जनता बिजली के लिए तड़प रही है। सारा दिन आवाजाही करने वाली बिजली रात में कई-कई घंटे कट जाती है। कई दिनों से रातों मे कई-कई घंटों के लिए गुल हो रही बत्ती से लोग सो नही पा रहे। चार्ज न होने की वजह से इनवर्टर भी दगा दे रहे हैं। वहीं दिनों मे भी थोड़ी थोडी देर मे बिजली चली जाती है। बिजली की आंखमिचैली से लोग पूरी तरह से बेहाल हैं। लोगांे मे विद्युत कटौती को लेकर आक्रोश उत्पन्न होता जा रहा है। बच्चे, बूढे व जवान सभी आंधी रात्रि तक जगने को मजबूर हैं वहीं दिन की कटौती लोगों को छका रही है। वहीं विभाग के जिम्मेदार अधिकारी फाल्ट की बात कहकर अपना पल्ला झाड़ने मे लगे हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट