AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शुक्रवार, 22 जून 2018

जबरन घर में घुसकर पडोसी दबंगो ने की पिटाई

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता - भले ही योगी अपनी सरकार में पुलिस के हाथों को मजबूत करने की बात करते हो लेकिन सच यह है कि आज भाजपा राज में आम जनता के लिए पुलिस का रवैया ठीक नही है। एक आम आदमी आज थाना-पुलिस से बचना चाहता है। शहर की पुलिस कभी भी मित्र पुलिस नही बन सकी। कई वाक्यों में तो पीडित को ही थाने में बैठा लिया गया। आये दिन समाचारपत्रों में खाकी के कारनामे छपते रहते है। ऐसे ही एक मामले में महज एक मकान में काम कर रहे एक मजदूर से गुटखा थूक दिया, जिसपर कछ छीटे बगल के मकान में चली गयी, इस पर उन लोगो ने मजदूर सहित पूरे परिवार को मिलकर इतना पीटा कि तीन लोगो के सिर फट गये, टांके लग गये। इतना ही नही जब वह पीडित थाने पहुंचे तो उन्हे ही फटकार लगायी गयी। पुलिस ने प्राइवेट रूप से पीडितों का मेडिकल कराकर भगा दिया और प्रथम सूचना रिपोर्ट भी नही दर्ज की। पीडित परिवार के सदस्यो ने एसएसपी से मिलकर न्याय की गुहार लगायी।
           पीडिता राधा देवी निवासिनी 140 मवइया थाना चकेरी ने बताया कि वह अनपढ है। कहा वह अपना मकान बनवा रही है। निर्माण कार्य कर रहे मजदूर अवधेश ने गुटखा खाकर थूका जिसकी कुछ छीटें बगल के मकान में चली गयी इतनी सी बात पर पहले से रंजिश रखने वाले गुलाब राय, उनका बेटा सुरेश, चंटू, पप्पू बेटी सुनीता, अकिता तथा पत्नी सावित्री के साथ बहुए सरिता माया व राजकुमार एकदम उनके घर में घुस आये और मजदूर को पीटने लगे गलती की क्षमा मांगने तथा बीच बचाव के दौरान उन लोगो ने पीडिता की भतीजी गुडउन, भतीजा रमेश वर्मा, उमेश तथा पति उमेश को डण्डों से बुरी तरह पीटा जिससे तीन लोगो के सिर फट गये, जबकि डर के कारण सारे मजदूर भाग गये। खून से लथपथ जब पीडित थाने पहुेचे तो उनकी एक न सुनी गयी। भतीजी के बोलने पर सिपाही बोले इसका नाम लिखो यह ज्यादा बोल रही है। वहीं प्रार्थनापत्र देने पर पीडित पक्ष की रिपोर्ट भी दर्ज नही की गयी। हद तो तब हो गयी जब पुलिस ने प्राइवेट नर्सिंग होम से चोट खाये पीडतो की मलहम पट्टी करा दी, जबकि मेडिकल सरकारी अस्पताल में होता है। तुम को एक ही मोहल्ले में रहना है अब झगडा मत करना। जब रिपोर्ट लिखवाने के लिए कहा गया तो पुलिस ने डांट दिया, जिससे पडोसी दबंगो के हौसले बुलंद है और वह रोज गाली गलौज करते है। पडोसियो ने नाहक अपनी पुत्रियो के साथ छेड-छाड का आरोप लगाकर महिला थाने में भी प्रार्थना पत्र दे दिया, जिसके बाद पीडितो को महिला थाने बुलाया गया। अब दबंग पडोंसी हरिजन एक्ट तथा बलात्कार का मुकदमा लगवाने की धमकी दे रही है वहीं चकेरी पुलिस किसी प्रकार से न तो पीडितो की सुन रही है और न ही कोई कार्यवाही कर रही है। डर के कारण सभी पीडित एसएसपी कार्यालय पहुंचे जहां प्रार्थना पत्र देकर दोषियो पर कार्यवाही तथा अपनी स्वयं की सुरक्षा की मांग की।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट