AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 25 जुलाई 2018

अवैध कब्जों पर चला प्रशासन का बुलडोजर साफ हुआ अतिक्रमण

फतेहपुर, शमशाद खान । अवैध अतिक्रमण के विरुद्ध जिला प्रशासन द्वारा चलाये जा रहे अभियान के क्रम में बुधवार को एसडीएम पीपी तिवारी और सीओ सिटी कपिल देव मिश्रा के नेतृत्व में भारी पुलिस बल एवं पीएसी की मौजूदगी में शहर के राधानगर चैराहा से लेकर बाँदा सागर रोड तक अभियान चलाया गया। जहाँ सड़कों पर अवैध निर्माण को तोडा गया वहीँ स्वयं से तोड़ने वालों को जल्द से जल्द निर्माण को तोड़ने की मोहलत दी गई। कई जगह लोगो ने मजदूर न मिलने एवं मशीनों की अनुपलब्धता की बात बताकर और समय सीमा की मांग की जिसपर प्रशासन द्वारा किसी भी तरह का अतिरिक्त समय दिए जाने से इनकार कर दिया। लोक निर्माण विभाग, निकाय एवं राजस्व विभाग के कर्मचारियों द्वारा सड़कों के चिन्हीकरण का कार्य पहले ही पूर्ण किये जाने के बाद जेसीबी के कहर से बचने के लिये लोग स्वयं छेनी हथौड़ा लेकर अपना निर्माण तोड़ते दिखे।तो वहीं कुछ जगह सरकारी अमले को जेसीबी की सख्ती भी दिखानी पड़ी। दुकानों को तोड़ने से बेरोजगार हो जाने व निर्माण तोड़े जाने से छत विहीन हो जाने पर लोग अफसरो के आगे रहम के लिये गिड़गिड़ाते रहे लेकिन सरकारी कार्य के कारण अफसरो ने अपने हाथ खड़े कर कोई भी रियायत देने में असमर्थता जाहिर की। खून पसीना एक कर मेहनत की कमाई से बनाये गए अपने आशियाने व प्रतिष्ठानों को अतिक्रमण अभियान की जद से बचाने की हर मुमकिन कोशिश नाकाम हो जाने के बाद हताश लोग अपने दिलो पर पत्थर रख कर उन्हें तोड़ तो रहे है साथ ही उन्हें बरसात के दिनों में अपने परिवार को चलाने की चिंता भी खाये जा रही है।लोगो को बारिश की वजह से अपने दुकानों और मकानों के सामानों को शिफ्ट करने में घोर समस्याओ का सामना करना पड़ रहा है। और क्षतिग्रस्त होने का भय भी सता रहा। वहीं अतिक्रमण अभियान के कारण जगह जगह मलवे का ढेर लग गया है। प्रशासन द्वारा मलवा हटाये जाने के बाद भी अधिकतर मार्गो पर जाम की स्थिति कायम है। हथौड़े और छेनी की ठन ठंन की तोड़फोड़ के बीच किस भवन से मलवे का टुकड़ा सड़क पर गिर जाए कहा नही जा सकता यह समस्या रात के समय और गंभीर हो जाती है जब अँधेरे के कारण राहगीर समझ नही पाते और चोटहिल हो जाते है। जिला प्रशासन की सख्ती के आगे बड़े बड़े भवन भी अपने अतिक्रमण को बचा नही सके और आम आदमियों के साथ ही अतिक्रमण की दायरे में आ रहे रसूखदारों के घरों को भी तोड़ दिया गया।वहीँ प्रशासन का अतिक्रमण अभियान शहर से निकलकर बिन्दकी और खागा तहसीलों में भी पहुँच गया जहाँ दोनों तहसीलों के एसडीएम और सीओ के नेतृत्व में अभियान बदस्तूर जारी रहा। प्रशासन की इस सख्ती के कारण सड़कों के किनारे बसे हुए भवनों के स्वामियों में हड़कम्प मचा हुआ है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट