AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 4 जुलाई 2018

लेखपालों ने धरने के दूसरे दिन मांगों को लेकर बुलंद की आवाज

फतेहपुर, शमशाद खान । लेखपाल संघ ने लम्बित मांगों का निस्तारण न होने पर जहां रोष जाहिर किया वहीं कलमबंद हड़ताल कर दूसरे दिन भी धरने पर बैठकर आवाज बुलंद की। साथ ही उपजिलाधिकारी सदर के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर समस्या का निराकरण की मांग की। लेखपालों का कहना रहा कि उनकी मांगों पर कोई विचार नही किया जा रहा है कई बार शासन स्तर पर वार्ता भी हुयी लेकिन आश्वासन के सिवाय कुछ नही अब तक मिला है जिससे आक्रोशित होकर लेखपाल संघ बार-बार धरना प्रदर्शन करने के लिए मजबूर हो रहा है। 
लेखपाल संघ के अध्यक्ष रामनरेश निषाद की अध्यक्षता मे मांगों को लेकर जारी धरना के दूसरे दिन लेखपालों ने सदर तहसील परिसर मे दूसरे दिन भी धरना देकर आवाज बुलंद की। लेखपालों ने कहा कि उनकी जायज मांगों वेतन उच्चीकरण, एसीपी विसंगति, पेंशन विसंगति, लेखपाल सेवा नियमावली में संशोधन तथा भत्तों में वूद्धि आदि के सम्बन्ध मे कई बार प्रस्ताव भेजे गये हैं परन्तु उन पर कोई विचार नही किया गया। संवर्ग का आन्दोलन का भी सहारा लेना पड़ा लेकिन नतीजा शून्य है। मुख्यमंत्री से वार्ता हुयी लेकिन कोई नतीजा नही निकला। निरंतर दो वर्षो से संघर्ष किया जा रहा है लेकिन आपेक्षित सफलता नही मिली जिससे शासन की उदासीनता से लेखपाल संवर्ग मे भारी रोष व्याप्त है। अध्यक्ष श्री निषाद ने वेतन उच्चीकरण, वेतन विसंगति, पेंशन विसंगति, भत्तों मे वृद्धि, राजस्व परिषद द्वारा प्रस्तावित राजस्व उपनिरीक्षक सेवानियमावली 2017 को कैबिनेट से पारित कराना। लैपटाॅप व स्मार्ट फोन डिजिटल इण्डिया को क्रियान्वन कराने हेतु दिया जाना प्रोन्नति की दिक्कतों को दूर करना, आधारभूत सुविधाएं एवं संसाधन उपलब्ध कराने की मांग की। इस मौके पर मंत्री राजाराम, अजय पाल मौर्य, बीरेन्द्र सिंह, संतोष कुमार, अशोक कुमार तिवारी आदि लेखपाल मौजूद रहे। इसी तरह बिन्दकी व खागा तहसील मे भी सम्पूर्ण कार्य बहिष्कार कर लेखपाल धरने पर बैठ कर आवाज बुलंद करते रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट