AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 25 जुलाई 2018

सडकों पर नही सुरक्षित छात्राये

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता - एक ओर महिलाओ और लडकियों को आत्मरक्षा का पाठ पढाया जा रहा है, महिला सुरक्षा के लिए भले ही प्रशासन स्तर व शासन स्तर पर कार्य किया जा रहा हो लेकिन सत्यता बिल्कुल अलग है। इसमें कहीं न कहीं पुलिस प्रशासन भी जिम्मेदार है। आज लडकियों के स्कूलो के सामने जो स्थिति है यदि अभिभावक उसे देख ले तो शायद वह अपनी बेटियों को स्कूल तक न भेजे। स्कूलों के छूटने पर दर्जनो बाइक सवार युवक स्कूल के चक्कर काटते नजर आते है जो छात्राओं से छोड-छाड तथा छींटाकशी करते है और मजबूरी में छात्राओं को यह सहन करना पडता है। इस ओर न कानपुर का प्रशासन न स्कूल प्रशासन ध्यान दे रहा है और मनचले युवको द्वारा रोज छात्राओ को परेशान किया जा रहा है।
             वैसे तो शहर के सभी स्कूल जहां लडकियां पढती है वहां स्कूल की छुटटी के समय मनचले युवकों का जमावडा लगा रहता है लेकिन बानगी के रूप में हम बात करते है। सिविल लाइन स्थित हडसन स्कूल की जिसकी छुटटी होने के समय दर्जनो बाइको पर सवार मनचले युवक वहां एकत्र हो जाते है और छात्राओं से छेड-छाड करते है। महज 100 कदम की दूरी पर एनटीसी कार्यालय तिराहे पर पुलिस खडी रहती है लेकिन वह सिर्फ खडी ही रहती है। इधर युवक तेज रफ्तार बाईक लहराते हुए लडकियांे के पास से गुजरते है कभी छींटाकशी करते है तो कभी हाथ मार देते है और छात्राये बेचारी यह सब सहने को मजबूर है। कभी कभी छात्राओ को ले जाने वाले रिक्शा चलक युवको से भिड भी जाते है। इतना सब होने के बाद भी पुलिस प्रशासन द्वारा छुटटी के समय लडकियों के स्कूलो के बाहर कोई व्यवस्था नही की गयी है। यदि सादी वर्दी में कुछ पुलिस कर्मियों को स्कूल के बाहर लगा दिया जाये तो युवको का यह कारनामा बंद हो सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट