AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

रविवार, 22 जुलाई 2018

हलीम मुस्लिम सम्पत्ति को हडप करने की रची जा रही साजिश

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता -  मुसिलम एसोसिएशन कानपुर की कार्यकारिणी द्वारा एक वार्ता का आयोजन हलीम मुस्लिम इण्टर कालेज में हुआ, जिसमें मुसिलम एसोसिएशन के सदस्यों ने निष्कासित महामंत्री अब्दुल हसीब द्वारा उपनिबन्धक कानपुर मण्डल कानपुर के आदेश एवं उच्च न्यायालय के आदेश के विरूद्ध कार्य करने व काॅलेज की जमीन को हथियाने के रचे गये विभिन्न षडयंतो का पर्दाफाश किया।
         वार्ता के बताया गया कि मुस्लिम एसो0 कानपुर की जमीन बेचने, फर्जी सोसयटी बनाने एवं संस्था की 102 साल पुरानी नियमावली को बदलने के साथ अपनी मर्जी से बिना आम सभा की कोई बैठक बुलाये विभागयी, प्रशासनिक अधिकारियों को भ्रमित करने  के साथ उच्च न्यायालय के आदेशो को दरकिनारे कर मनमानी करने पर उतारू अब्दुल हसीब द्वारा फर्जी हलीम मुसिलम इंग्लिश सकूल सोसयटी बनायी गयी जो उप निबन्ध के आदेशो से निरसत कर दी गयी थी और यह कहा था कि मुस्लि एसो0 की कोई भी ऐसी बैठक नही हुई और न ही कोई कार्यवाही कार्यालय को प्रेषित की गयी अतः संस्था की नियमावली में कोई संशोधन किया गया हे। कहा अब्दुल हसीब द्वारा बनायी गयी फर्जी सोसयटी के निरस्त करते समय उपनिबन्ध ने जांच आख्या में यह लिखा है कि वर्तमान में प्रभावी मुस्लि एसो0 की नियमावली में 6 विधालय है तथा संशोधित नियमावली में 4, जिसमें हलीम मुस्लि पीजी कालेज, हलीम मुस्लिम इण्टर कालेज, मुस्लिम जुबली गल्र्स इण्टर काले, हलीम मुसिलम इंग्लिश स्कूल, हलीम मुस्लिम जु0हा0 स्कूल तथा जाजमऊ निस्वां जू0हा0 सकूल है। हसीब द्वारा अपने प्रबन्ध समिति के चुनाव घोषण में हलीम मुस्लिम इंग्लिश स्कूल एवं हलीम मुस्लि जू0 हा0 स्कूल के भी चुनाव घोषित किये जबकि हसीब ने अपना कार्यकारिणी का चुनाव संशोधित नियमावली द्वारा कराया।  बताया बिल्डारों द्वारा दिये गये पैसे जिस पैसे के एवज में हलीम मुस्लि इंग्लिश सकूल तथा हलीम मुस्लिम जू0हा0 स्कूल की जमीन बिल्डर क्षेत्रीय भूमाफिया के नाम पर लिख दी। कहा अब्दुल हसीब द्वारा उच्च न्यायालय के आदेशो की अवमानना की गयी है। उपनिबन्धक कानपुर मण्डल के आदेशो को नही माना तथा विधालयों की प्रबन्ध समितियों में जबरियां बदलाव किया साथ ही शांति भंग करने की कोशिश की है। कहा हसीब ने अपनी मर्जी से नई कमेटी का गठन किया जिसमें उनके तीन भाई, उनकी पत्नियो और अपने कर्मचारी को शामिल कर धोखा-घडी की है। बताया उच्च न्यायालय द्वारा यथा स्थित बनाये रखने का स्टे है, जिसे हसीब नही मान रहा है और नित नये षडयंत रच रहा है, जबकि उच्च न्यायाल के स्टे के साथ ही पूरे प्रकरण की सुनवाई भी चल रही है ऐसे में विधालय कमेटी में संशोधन करना, किसी प्रकार का स्वतः निर्णय लेना या विधालयो की जमीन सम्बन्धी छेडछाड करना अपराध की श्रेणी में आता है। कमेटी के सदस्यों ने कहा कि यदि अब्दुल हसीब उच्चा न्यायालय के आदेशा के सााि उपनिबन्ध के आदेशो को नही मानते है और विधालयों की प्रबन्ध समितियों में जबरिया बदलाव करते है तो उ0प्र0 के मुख्यमंत्री योगी जी से मिलकर शिकायत की जायेगी। वार्ता में मो0 अहमद, ऐजाज हुसैन, मो0 असलम नोमान, मो0 कामरान, अदनान, हाजी शरीफ कुरैशी, मसूद हाशिम, मुशीर अहमद, अलीमुल्लाह, मो0 इकबाल, एहराम, मो0 दानिश, शफीक सोलंकी आदि पदाधिकारी व सदस्यगण मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट