AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

गुरुवार, 12 जुलाई 2018

जो योजनाये पूर्ण हो गयी हैं, उनका संचालन ठीक ढंग से कराया जाय - अनुराग श्रीवास्तव

चित्रकूट, ललित किशोर त्रिपाठी । प्रमुख सचिव, ग्राम्य विकास उ0प्र0 शासन श्री अनुराग श्रीवास्तव ने विकास भवन का निरीक्षण किया। जिसमें जिला विकास कार्यालय के निरीक्षण में प्रशासनिक अधिकारी श्री चुनकाई प्रसाद यादव से जानकारी की कि कार्यालय कब शिफ्ट हुआ है इस पर प्रशासनिक अधिकारी ने बताया कि 17 जनवरी 2017 को हुआ है। प्रमुख सचिव ने निर्देश दिये कि जो भी पुरानी पत्रावलियां पड़ी हों उनकी बीडिंग करायी जाय। सहायक लेखाधिकारी से ग्राम्य विकास अधिकारियों के सेवा निवृत्त के बारे उनके भुगतान हुये हैं कि नहीं इस पर संबंधित कर्मचारी ने बताया कि 11 कर्मचारियों मेें से तीन को पेंशन अभी तक दी गयी है 8 लोगो की शेष है इस पर प्रमुख सचिव नाराजगी व्यक्त करते हुये जिला विकास अधिकारी को शक्त निर्देश दिये कि सहायक लेखाधिकारी श्री वीसी पाण्डेय यह कार्य देख रहे हैं और यह भी माह अगस्त 2018 सेवा निवृत्त हो रहें हैं तो इनकी भी पेंशन रोकी जाय। उन्होंने कम्प्यूटर कक्ष में आईजीआरएस आदि फीडिंग के कार्य को देखा इसके बाद उन्होंने जिला युवा कल्याण कार्यालय का भी निरीक्षण किया जिसमें जिला युवा कल्याण अधिकारी श्री अरविन्द स्वरुप कुशवाहा से स्टाफ के बारे में जानकारी की।
तदोपरान्त प्रमुख सचिव ने मुख्य विकास अधिकारी कक्ष में एक बैठक का आयोजन किया जिसमें पेयजल,सड़क,सौर्य ऊर्जा, मनरेगा के कार्यो,स्वयं सहायता समूहों,स्वच्छ शौचालय, प्रधानमंत्री आवास, कौशल विकास योजना, आॅगनवाड़ी केन्द्रों का संचालन, शिक्षा व्यवस्था आदि योजनाओं से संबंधित अधिकारियों से बिन्दुवार समीक्षा की। विकास भवन की स्थित पर अधिशाषी अभियंता सीएनडीएस ने बताया कि यह योजना वर्ष 2009 में स्वीकृति हुयी थी जिसमें जमीन विवाद के कारण वर्ष 2011 में कार्य शुरु हुआ है इसमें अभी वाहन स्टैण्ड, सड़के, पार्क आदि का कार्य शेष है जिसके लिये शासन को रिवाइज स्टीमेट भेजा गया है। प्रमुख सचिव ने पेयजल के संबंध में अधिशाषी अभियंता जल संस्थान व परियोजना प्रबंधक अस्थायी खण्ड जल निगम को निर्देश दिये कि जो भी पेयजल योजनाये है उनका संचालन ठीक ढंग से कराया जाय जो योजनाये पूर्ण हो गयी हैं उन्हे हैण्डओवर करें। अधिशाषी अभियंता जल संस्थान श्री एसके यादव ने बताया कि 21 पेयजल योजना संचालित हैं जिसमें 102 गांव में सप्लाई की जा रही हैं शहर में पेयजल की समस्या नहीं है। प्रमुख सचिव ने परियोजना प्रबंधक जल निगम को निर्देश दिये मऊ व बरगढ पेयजल योजना की सप्लाई कितने गांव में हो रही है उसकी सूची उपलब्ध करायें और विशेष सचिव उ0प्र0 शासन श्री अच्छेलाल को निर्देश दिये कि आप इनकी योजनाओं का मौके पर जाकर निरीक्षण कर आख्या उपलब्ध करायें। उन्होनंे कहा कि जिन योजनाओं के कार्य अधूरे है उन्हे शासन की मंशा के अनुरुप पूर्ण कराया जाय। मुख्य विकास अधिकारी से कहा कि पेयजल योजनाओं में मनरेगा के निर्माण अंश से छोटी-छोटी कमियों को दूर करायें ताकि पेयजल की कोई समस्या न हो।
इस अवसर पर विशेष सचिव ग्राम्य विकास उ0प्र0 शासन श्री अच्छेलाल, मुख्य विकास अधिकारी डाॅ0 महेन्द्र कुमार, जिला विकास अधिकारी श्री आर के त्रिपाठी, परियोजना निदेशक श्री अनय कुमार मिश्रा, डीसी एनआरएलएम श्री रामउदरेज यादव, सहायक अभियंता डीआरडीए श्री महेश कुमार गुप्ता सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट