AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शुक्रवार, 13 जुलाई 2018

बिठूर के एतिहासिक घाट पर दबंग का कब्जा

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता - मामला ऐतिहासिक नगरी बिठॅर के अति प्रचीन पत्थर घाट का है, जो कि उत्तर प्रदेश पुरातत्व विभाग की सम्पत्ति है तथा जिसकी देख रेख सुरक्षा व्यवस्था विभाग द्वारा ही की जाती है, लेकिन कुछ समय पूर्व यहां पर एक हिस्ट्रीशटर द्वारा अवैध कब्जा कर लिया और जिसे खाली कराने में पुरातत्व विभाग भी नाकाम साबित हुआ। 
          वर्तमान समय में जमीनो पर अवैध कब्जे धडल्ले से किये जा रहे है, पैसे वाला हो चाहे दबंग या भूमाफिया, जगहो की बढती कीमतो को देखते हुए सब जमीनो पर कब्जा करने में लगे है। ऐसा ही मामला ऐतिहासिक नगर बिठूर, कानपुर का है जहां अति प्रचाीन पत्थर घाट है जो उ0प्र0 पुरातत्व विभाग की सम्पत्ति तो है लेकिन इस घाट पर कब्जा कर लिया गया है। सूत्रो की माने तो कुछ समय पहले यहां जयकरण द्विवेदी तथा उनके सहयोगियों द्वारा घाट पर बने पुराने कमरो पर कब्जा कर लिया गया था, जिसको खाली कराने में पुरातत्व विभाग भी नाकाम हो गया था। बतातें चले कि कुछ दिनो पूर्व सीएम दौरे के दौरान पूरे घ्ज्ञाट के कमरो को खाली कराया लिया गया था तथा प्रशासन द्वारा सभी खाली कराये गये कमरो में विभाग का ताला डलवा दिया गया था। अब बात करते है सूबे के मुखिया की जो सूबे के मुखिया गंडो व दबंगो के ऊपर लगाम लगाने का भरकस प्रयास कर रहे है तो दूसरी ओर प्रसाशन की सुस्ती उस पर पानी फेर रही है। यह जयकरण इतना दबंग है कि इसे प्रशासन का भी खौफ नही है, इसने प्रशासन द्वारा लगवाये गये घाट पर बने प्राचीन कमरो के ताले तुडवा दिया है और फिर से कमरों पर कब्जा कर विभाग को चुनौती दे रहा है। इस पूरे प्रकरण को कई दिन बीत चुके है लेकिन प्रशासन की न तो नींद खुली है और न ही पुरातत्व विभाग के अधिकारी इसे संज्ञान में ले रहे है। यही हाल रहा तो ऐतिहासिक एवं धार्मिक नगर बिठूर में करी प्राचीन धरोहरो पर धीरे-धीरे दबंगो और भूमाफियाओं का कब्जा हो जायेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट