AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 18 जुलाई 2018

शहर की सडकों पर एकत्र हजारो मीट्रिक टन कूडा

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता - सरकार द्वारा कानपुर को स्मार्ट सिटी बनाने का प्रयास किया जा रहा है। नगर निगम द्वारा शहर को साफ-सुथरा दिखाने और बताने में कोई कसर नही छोडी जा रही है। सफाई के लिए जागरूकता अभियान चलाये जा रहे है लेकिन यह सभी व्यर्थ है क्यों कि हकीकत तो यह है कि शहर में कूडे का अंबार लगा है। कोई भी क्षेत्र मोहल्ला और गलियां ऐसी नही जहां कूडा का ढेर न हो। समय पर कूडे का उठान और निस्तारण न होने के कारण शहर की सडकों पर टनो कूडा एकत्र पडा है। एक आंकडे के अनुसार शहर में रोजाना 1370 मीट्रिक टन कूडा निकलता है, जबकि महज 1 हजार मीट्रिक कूडा भाऊपुर पनकी प्लांट तक पहुंच पाता है बांकी कूडा सडकों पर ही एकत्र रहता है। बारिश का मौसम भी शुरू हो चुका है। नालियो में अवरोध, नालों का साफ न होना शहर के लिए अच्छे संकेत नही है। बारिश के दौरान जल भराव निश्चित है और ऐसे में सडकों पर एकत्र कूडा सडेगा और बीमारियों, संक्रमण रोगो को दावत देगा।
          नगर निगम के अधिकारी भले ही सफाई को लेकर अपनी पीढ थपथपाये लेकिन सच्चाई कुछ और ही है जो कानपुर की सडकों पर दिखायी पड रही है। शहर को स्मार्ट सिटी बनाने की लिए तीन साल से व्यवस्थाओं को दुरूस्त करने का काम चल रहा है तथा सडको पर खुले कूडा घरों को हटाने के साथ आइ आधुनिक कूडाघर बनाने के लिए वर्कआर्डर भी हो चुका है लेकिन अभी इस ओर कोई कार्य शुरू नही हुआ। शहर भर में कहीं भी नगर निगम द्वारा कूडा उठान की व्यवस्था ठीक नही हुई। नगर की प्रमुख सडकों पर कूडे के ढेर लगे है क्यों कि कूडा रोज एकत्र होता है लेकिन समय पर उसका उठान नही होता है। धनी आबादी और मलिन बस्तियो में स्थिति और भी खराब है जहां रोज सफाई तक नही होती। दूसरी ओर भाऊसिंह पनकी में आठ लाख मीट्रिक टन कूडा एकत्र है। सूत्रो की माने तो कूडा निस्तारणा के लिए यहां लगे प्लांट की कार्यगति धीमी होने के कारण कूडे का निस्तारण समय पर नही हो पा रहा है और दिन-प्रतिदिन कूडे का ढेर बढता जा रहा है। प्लांट के आस-पास बसे गांव के लोगो की माने तो कूडे के कारण उनका सांस लेना दूभर हो गया है। यहां तक जमीन से पानी भी गंदा आने लगा है, लोग संक्रमण की गिरफ्त में आते जा रहे है। यही स्थित रही तो बारिश के दौरान क्षेत्र में कई बीमारियां फैलेंगी। फिलहाल अभी कोई ऐसी व्यवस्था नजर नही आ रही है जिससे कूडे की समस्या से शहर को निजाद दिला सके।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट