AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

मंगलवार, 10 जुलाई 2018

एक सौ तीन वर्षीय संत के निधन से संतो मे शोक

चित्रकूट, ललित त्रिपाठी । ग्राम बरमपुर मे स्थित राधा कृष्ण मंदिर के मंहत श्री ब्रम्हर्षि उमादास जी महराज का दिन सोमवार को सांय सात बजे आकस्मिक निधन हो गया जिससे चित्रकूट के संतो तथा ग्राम वासियो एवं भक्तो मे शेाक की लहर दौड गयी। प्रमुख द्वार कामता नाथ के महंत मदन गोपाल दास जी महाराज ने कहा है कि परम तपस्वी संतक े निधन से एक अपूर्णीय क्षति हुई है उन्होने बताया कि संत ने गोलोक जाने से लगभक सोलह घंटे पहले ही अपनी म्रत्यू के बारे मे बता दिया था बताये अनुसार शाम सात बजे वह गोलोक वासी हो गये उनके भक्तो ने बताया कि मेडिकल रिर्पोट मे पूरी तरह से डाक्टरो ने फिट बताया था इसके बाद भी वह अपने सही समय पर इस दुनिया को हमेसा के लिये अलबिदा कह कर चले गये ग्रहस्थ जीवन ब्यतीत करने वाले परम तपस्वी संत उमादास जी महराज अपने पीछे भरा पूरा परिवार छोड कर गये है जिसमे उनके पांच पुत्र तथा तीन पुत्रिया एवं नाती पोते पनाती आदि है। उनके एक पुत्र ललित त्रिपाठीजो पत्रकार है तथा उनके भक्तो ने बताया जो राजस्थान के धौलपुर जिले से आये हुये थे कि हमारे गुरदेव जो कहते थे वह हमेसा सत्य होता था आगे बताया कि उन्होने 89 महायज्ञ करवाये थे तथा हमेसा सनातन धर्म की रक्षा की है लगभग 40 जिलो मे उनके शिष्यो की लंबी फौज है एसे संतक े निधन से सभी लोगो मे शोक है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट