AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शुक्रवार, 13 जुलाई 2018

देश में हर आठवे व्यक्ति को है क्रानिक साइनोसाइटिस

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता - साइनोसाइटिस वह बीमारी है जो आम सर्दी जुखाम के रूप में शुरू होती है फिर इसका बैक्टीरियत, वायरल और फंगल संक्रमण के रूपा में पूरी तरह से विकसित हो जाता है, जिसको साइनस की बीमारी कहते है। यह बीमारी देश में हर आठ मे से एक भारतीय को है। इस बीमारी में आंखा समें सूजन, कान बहने की समस्या उत्पन्न होती है।
       कानपुर के ईएनटी विशेषज्ञ डा0 निशान्त सक्सेना का कहना है कि साइनेासाइटिस का मुख्य कारण नाक की संरचना, धूल, एलर्जी एवं नाक के बन्दर का बढा हुआ मांस होता है। साइनोसाइटिस के लक्षण चेहरे में भारीपन, जाडा देकर बुखार आना, नाक बन्द होना, खर्राटा आना, छींके आना, नाक का बहना है। कानपुर में इस बीमारी से कई लोग ग्रसित है। यदि सही समय पर डाक्टर का परामर्श लिया जाये तो उपचार द्वारा इस बीमारी को पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है। डा0 निशान्त ने बताया कि साइनस के चारो तरफ कई महत्वपूर्ण संरचनाए होती है जो हवा से भरी होती है, जेाकि नाक के आसपास, गाल, माथे की हडडी के पीछे व आंखो के बीच के भाग में उत्पन्न होने लगती है और इसी को साइनस की बीमारी करहते है। यदि साइनस के वैक्टभ्रिया और वायरस में वृद्धि होती है तो यह अन्य जहगहो पर इन्फेक्शन फैला सकता है जिससे कई भाग चपेट में आ सकते है, इस लिए सही समय पर इसका इलाज जरूरी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट