AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शनिवार, 14 जुलाई 2018

बारादेवी चैराहे से जूही नहरिया तक सब्जी मण्डी बनी आफत का सबब

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता -  पांच वर्ष पहले ओ ब्लाक किदवई नगर स्थित थोक सब्जी मंडी को हटाकर चकरपुर इस लिए भेजा गया था कि शहर के अन्दर यातायात सुविधा सुगम हो सके। यहां की दुकानों को चकरपुर मण्डी भेज दिया गया था, लेकिन बारादेवी चैराहे से व उसके आस-पास लगने वाली सब्जी की दुकानो को अभी तक कहीं दूसरी जगह सिफ्ट नही किया जा सकता है। अब यह मण्डी बारादेवी चैराहे से लेकर जूही नहरिया तक गुलजार रहती है और यातायात में बाधक बनी हुई है।
       बताते चले कि किदवई नगर थोक सब्जी मण्डी को तो चकरपुर मण्डी में स्थानान्तरण करा दिया गया था लेकिन बारादेवी से जूही नहरिया तक सडक पर लगने वाली सब्जीमण्डी का अभी तक कोई निर्णय नही लिया जा सका है। सडक पर लगने वाली फुटकर सब्जी मण्डी पहले बारादेवी चैराहे पर लगती थी लेकिन अब यह बारादेवी से लेकर जूही नहरिया तक लगती है। सडक पर लगने वाली इस मण्डी के कारण यहां जाम की स्थित हमेशा बनी रहती है। वहीं नहरिया के पास सडक सकरी होने के कारण भयकंर जाम लग जाता है। रोज लोगो को इस सडक को पार करने से पहले जाम से जूझना पडता है। मण्डी सडक पर लगती है और खरीदारो तथा उनके वाहनो के कारण सडक और भी संकुचित हो जाती है तो वहीं रही सही कसर आवारा जानवर पूरी कर देते है। चूंकि यह मुख्य सडक है इस लिए सुबह से रात तक यह छोटे-बडे सभी प्रकार के वाहनो का आवागमन होता है। सवारियों को भरने के लिए आॅटो व ईरिक्शा भी जमावडा लगाते है। लोगो ने बताया कि सब्जी मण्डी की आड में यहां थोक दुकाने भी लगती है। पहले भी इस मण्डी को हटाने के कई बार प्रयास किये जा चुके है लेकिन हर बार विफलता ही हात लगती है। वहीं दूसरी ओर अधिकारियों को भी भय है क्योंकि पहले किदवई नगर सब्जी मण्डी हटवाने में उनके पसीने छूट गये थे। इस मण्डी को हटवाने पर धरना-प्रदर्शन, पुलिस से झडपे आदि हो चुकी है सो अब प्रशासन द्वारा भी इस ओर अनदेखी की जाने लगी है। यहां लगने वाली दुकानो से नगर निगम कर्मी टैक्स की पर्ची भी काटते है ऐसे में यहां के फुटकर दुकानदार भी पूरी हिम्मत के साथ जमे है और यह सब्जी मण्डी राहगीरो और वाहन सवारो के लिए काल बन चुकी है। आये दिन यहां हादसे होते है तो आवारा जानवरो का भी खतरा बना रहता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट