AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 25 जुलाई 2018

माटी उत्पाद पर्यावरण के अनुकूल और प्लास्टिक उत्पादों का मजबूत विकल्प - सत्यदेव पचौरी

लखनऊ, सुनील चतुर्वेदी  - प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम तथा खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री श्री सत्यदेव पचौरी ने कहा कि आज खादी बोर्ड का चहुमुंखी विकास हो रहा है ।  उन्होंने कहा कि खादी बोर्ड जो पूर्व में घाटे में चल रहा था, वर्तमान सरकार के अथक प्रयासों से विकास की गति मिली है ।  उन्होंने अधिकारियो को निर्देश देते हुए कहा कि पारदर्शिता एवं जिम्मेदारी के साथ अपने दायित्वों का निर्वहन करना सुनिश्चित करे, शासकीय  दायित्वों के प्रति किसी भी स्तर पर उदासीनता लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी ।  उन्होंने कहा कि विभाग के विरुद्ध माननीय न्यायालय में योजित वादों में प्रभावी पैरवी सुनिश्चित करते हुए शीघ्र वादों को निस्तारित कराया जाए ।  सत्यदेव पचौरी आज  निराला नगर स्थित खादी एवं ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केंद्र में विभागीय समीक्षा बैठक में अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे, उन्होंने कहा कि किसानों की आय को दोगुना करने के लिए वर्तमान परिवेश में मधुमक्खी पालन उद्योग एक सशक्त माध्यम है ।  उन्होंने कहा कि मधुमक्खी पालन के माध्यम से ऐसे लोगों को रोजगार के साधन उपलब्ध होंगे, जिसके पास भूमि उपलब्ध नहीं है ।  परंतु इसके लिए लोगों के मध्य जागरूकता फैलाने तथा लोगों को प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है ।  समीक्षा बैठक के दौरान मंत्री जी ने जिलों में आयोजित किए जाने पर कार्यक्रम का शुभारंभ जिलाधिकारी अथवा जन प्रतिनिधि द्वारा कराए जाने के निर्देश दिए, साथ ही साथ उन्होंने कहा की गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण दिए जाने के उद्देश्य से विशेषज्ञों की भी मदद ली जाए ।  उन्होंने कहा  कि माटी उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए माटी कला बोर्ड का गठन किया गया है ।  श्री पचौरी ने कहा की माटी उत्पाद पर्यावरण के अनुकूल और प्लास्टिक उत्पादों का मजबूत विकल्प है ।  मुख्य सचिव खाद्य श्री नवनीत सहगल ने कहा की खादी बुनकरों की आय बढ़ाने एवं उत्पाद में वृद्धि करने के उद्देश्य से सोलर चरखे  लगाए जाएंगे, साथ ही उन्होंने कहा कि जनपद की मांग के अनुसार भी खादी का उत्पादन एवं बिक्री की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए ।  सहगल ने बताया कि नवगठित माटी कला बोर्ड द्वारा शीघ्र नीति-निर्धारण की जाएगी, जिससे माटी कला से जुड़े लोगों का विकास के अवसर प्राप्त होंगे ।  इस अवसर पर सीईओ खादी बोर्ड श्री अविनाश सिंह सहित जनपद से आए अधिकारी एवं जिला ग्रामोद्योग अधिकारी उपस्थित थे ।    

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट