AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

गुरुवार, 2 अगस्त 2018

प्रेम प्रसंग के चलते हुयी हत्या का पुलिस ने 17 दिन मे किया खुलासा

फतेहपुर, शमशाद खान । चांदपुर थानाक्षेत्र के ग्राम जारा मोड़ के समीप विगत 17 दिन पूर्व थाने के चैकीदार की सूचना पर पुलिस ने एक युवक का अधजला शव बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा था उधर पुलिस ने अज्ञात शव की शिनाख्त के लिए पास के जनपद कानपुर व उन्नाव मे इसकी जानकारी हासिल की जिसमे पुलिस ने अधजले अज्ञात शव के शिनाख्त करते हुए तीन हत्यारों को गिरफ्तार किया है। उधर पुलिस अधीक्षक राहुल राज ने मामले को गंभीरता से लेते हुए जल्द से जल्द गिरफ्तारी के निर्देश दिये थे। इस मामले मे पुलिस ने हत्या मे शामिल सुनील यादव उर्फ संजू यादव पुत्र शिवराम सिंह निवासी ग्राम मलखानपुर थाना रसूलाबाद जनपद कानपुर देहात हाल पता राधापुरम शिवली रोड़ थाना कल्यानपुर जनपद कानपुर, दीपक ओमर पुत्र नरेश चन्द्र ओमर निवासी कस्बा अमौली थाना चांदपुर व श्रीमती पुष्पा यादव पत्नी सुनील यादव निवासी बाटुकापुरा छिटकहवा थाना रौंनापार जिला आजमगढ़ हाल पता राधा पुरम शिविली रोड़ थाना कल्यानपुर जनपद कानपुर को गिरफ्तार किया है। आज दोपहर पुलिस लाइन के सभागार मे पत्रकारों से रूबरू होते हुए पुलिस अधीक्षक राहुल राज ने घटना का खुलासा करते हुए बताया कि 15 जुलाई को थाना चांदपुर क्षेत्र के जारा मोड़ के पास चैकीदार की सूचना पर अधजले शव की शिनाख्त आशुतोष कटियार पुत्र स्व0 महेन्द्र कटियार निवासी कुलबगहा थाना बीघापुर जनपद उन्नाव के रूप मे किया गया। उन्होनें बताया कि आशुतोष कटियार एवं सुनील यादव पुत्र स्व0 मोहित यादव निवासी बाटुकापुरा छिटकहवा थाना रौनापार जिला आजमगढ़ , दीपक सचान उर्फ घनश्याम बाबा पुत्र रामबाबू निवासी बम्हौरी थाना सजेती जनपद कानपुर एवं, सुनील यादव उर्फ संजू यादव पुत्र शिवराम सिंह निवासी मलखानपुर थाना रसूलाबाद जनपद कानपुर चारों मित्र थे और विभिन्न जनपदों से लूट को घटनाओं को अंजाम देते थे उन्होनें बताया कि मृतक आशुतोष कटियार के सगे चाचा अरविन्द उर्फ रवीन्द्र कटियार पुत्र तिलक सिंह की पुत्री शालू से प्रेम प्रसंग हो गया था और उसे लेकर अकबरपुर मे किराये के मकान मे रहता था। इसी आशुतोष ने शालू के नाम तीन प्लाट खरीद रखा था उधर पुलिस ने चोरी के मामले मे आशुतोष को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इसी बीच शालू एक मुस्लिम लड़के के साथ भाग गयी। जेल से छूटने के बाद उसने अपने चाचा व शालू से प्लाट वापस मांगा तो उन लोगों ने उसकी हत्या की साजिश रच डाली। जिसके तहत घटना को अंजाम दिया गया। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट