AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

रविवार, 12 अगस्त 2018

कुंडेश्वर महादेव मंदिर का दिन मे तीन पहर रंग बदलता शिवलिंग

खागा, फतेहपुर, शमशाद खान । तहसील क्षेत्र के मझिलगांव में स्थित कुंडेश्वर महादेव मंदिर में लंकाधिपति रावण द्वारा स्थापित शिव लिंग के दर्शन के लिये दूर-दूर से श्रृद्धालु पहुंचते हैं जबकि सावन के प्रत्येक सोमवार तथा महाशिवरात्रि पर्व में मंदिर प्रांगण शिव भक्तों की भीड़ से गुलजार रहता है। कुंडेश्वर महादेव की एक मुखी शिवलिंग के मस्तक भाग पर जटाजूट तथा पूर्ण खुली गोल आंखें हैं। शिवलिंग की खास विशेषता है कि यह दिन में तीन प्रकार से रंग बदलती है। राष्ट्रीय राजमार्ग पर खागा से मात्र आठ किलोमीटर दूर इलाहाबाद मार्ग पर स्थित यह कुंडेश्वर महादेव शिव मंदिर भक्तों के लिए कल्पवृक्ष का काम कर रहा है। ऐसी मान्यता है कि भगवान आशुतोष से शिवलिंग लेकर लंकापति रावण वापस लौट रहे थे। इसी दौरान उन्होने शिवलिंग को जमीन पर रख दिया था। बस फिर क्या था यह शिवलिंग इतिहास का अनगढ़ पत्थर बन गया। रावण द्वारा स्थापित शिव लिंग में विषमुख के मध्य भाग में ओम अंकित है। ब्रह्म लिपि में लिखा मंदिर में लगा पत्थर नागवंश काल में शिव लिंग स्थापित किए जाने का संकेत देता है। मान्यता यह भी है कि एक नाग शिवलिंग के दर्शन करने प्रतिदिन आता है। उस समय नागदेव को जिस साधु ने भी देखने का प्रयास किया वह जीवित नहीं रह सका। 

आस्था का उमड़ता सैलाब 
खागा, फतेहपुर, शमशाद खान । यूं तो मंदिर में पूरे साल भक्तों का जमावड़ा रहता है, लेकिन शिवरात्रि व सावन के महीने में दूर-दूर से भक्त भगवान शिव की आराधना के लिए आते हैं। सावन के तीसरे सोमवार में भारी भीड़ के आने की संभावना को लेकर प्रशासनिक तैयारियां जोरों पर चल रही हैं। 

रुद्रवंती भगवान शिव का वरदान
खागा, फतेहपुर। प्राचीन मंदिर के नजदीक स्थित झील में दुर्लभ औषधि रुद्रवंती पाई जाती है। ग्रामीण बताते हैं कि गर्मी के दिनों में रुद्रवंती की तलाश में दूर-दूर से वैद्य, जरुरतमंद आते हैं। बताते हैं कि सूरज निकलने से पहले ही दुर्लभ औषधि की प्राप्ति होती है। धूप निकलते ही रुद्रवंती भूमि के अंदर दराजों में छिप जाती है। 

भगवान भोलेनाथ पूरी करते मनोकामनाएं
खागा, फतेहपुर। मंदिर के पुजारी गोपालदास जी महराज का कहना था भगवान भोलेनाथ की महिमा को जानने वाले श्रृद्धालु हर रोज यहां आते हैं। भगवान शिव से सच्चे मन से मांगी गई हर इच्छा पूरी होती हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट