AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शनिवार, 29 सितंबर 2018

भ्रष्टाचार व उत्पीडन से त्रस्त हैलट अस्पताल के आउट सोर्सिंग कर्मियों ने की हडताल, दिया परिसर में धरना

कानपुर नगर,  हरिओम गुप्ता - गणेश शंकर विधार्थी मेडिकल काॅलेज कानपुर नगर से सम्बघ हैलट अस्पताल में उस समय अफरा-तफरी का माहौल हो गया, जब हैलट अस्पातल में कार्यरत 250 आउट सोर्सिंग कर्मचारी कार्यदायी संस्था व हैलट प्रशासन पर मनमानी उत्पीडन और भ्रष्टाचार का आरोप लगाकर हडताल पर चले गये औरपरिसर में ही धरने पर बैठकर कार्यदायी संस्थाव हैलट प्रशासन के विरूद्ध जमकर नारेबाजी करने लगे।
            धरने पर मौजूद कर्मियों में अविनाश, अनेश कुमार, धीरज कुमार, सुरज, शिव कुमार, अजय पांडे, बबलू, हर्ष, कृष्णा, रजत, दिनेश, कुसुमलता ने कार्यदायी संस्था व हैलट प्रश्ज्ञासन  पर गंभीर आरोपल लगाते हुए बताया कि गणेश शंकर विधार्थी मेडिकल काॅलेज कानपुर के लाला लाजपत राय चकित्सालय(हैलट) एवं सम्बघ चिकित्सालयों में वार्ड बाॅय व सफाई कम्रियों की भारी कमी को देखते हुए मेडिकल काॅलेज के प्रचार्य नवनीत कुमार ने आउट सोर्सिंग कर्मचारियों की तैनाती का निर्णय लिया था। इसी के तहत दिल्ली एक नामचीन संस्था इंटेलिजेंस सर्विसेज लि0 कं0 एसआईएस का आउटसोर्सिंग कर्मचारियों की तैनाती करने के लिए नियुक्त किया गया। कम्पनी ने व्यवस्था संभाली और कर्मचारियों की तैनाती हो गयी। वर्तमान में लगभग 250 कर्मचारी कार्यरत है। कर्मियों ने यह भी बताया कि अब कार्यदायी संस्था मनमानी व भ्रष्टाचार पर उतारू हो गयी है। संस्था द्वारा न ही समय पर वेतन दिया जाता है और निर्धारित वेतनमान न देकर मनमाना वेतन दिया जाता है। सभी र्मियों का पीएफ में पंजीकरण भी नही कराया गया है। नये लोगों से 15 से 20 हजार तक वसूल कर उन्हे तैनाती दी जाती है। जो कर्मी कार्यदायी संस्था के इस कृत का विरोध करता है उसके साथ अभद्रता कर उसे गैरकानूनी तरीके से नौकरी से निकाल दिया जाता है। बताया कि इस कृत्य में हैलट प्रशासन भी उनकी मदद करता है। इस दोरान जैसे ही कार्यदायी संस्था व हैलट प्श्ज्ञासन के विरष्ठ अधिकारियों को हडलात व धरने की सूचना हुई तो हैलट प्रशासन के हाथ पांव फूल गये। हैलट प्रशासन ने मौके पर ही कार्यदायी संस्था के विरष्ठो के भेजकर उनकी मांगे पूरी करने का आश्वा दिया, जिसके उपरांत हडताल व धरना समाप्त कर दिया गया।  इस सम्बन्ध में जब कार्यदायी संस्था के अधिकारियो से बात करने का प्रयास किया गया तो वह गोलमोल जवाब देते नजर आये। इस प्रकरण में जब गणेश शंकर विधार्थी मेडिकल काॅलेज के प्रचार्य नवनीत कुमार से बात की गयी तो उन्होने बताया कि वह बाहर है लेकिन उन्हे प्रकरण की जानकारी है और षहर आने पर वह कार्यदायी संस्था की जांच करायेगे तथा दोखी जाये जाने पर कार्यदायी संस्था को ब्लैक लिस्टेड करने की कार्यवाही की जायेगी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट