AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 12 सितंबर 2018

नरसिंहपुर स्थित विद्यालय में शिक्षकों की खुली पोल आज मुख्यमंत्री करेंगे विद्यालय का निरीक्षण

चन्दौली - दिपक शुक्ला
बच्चो को देश का भविष्य कहा जाता है , लेकिन जब उन्हें संवारने की जिम्मेदारी ऐसे हांथो में हो जिनका खुद का ज्ञान कमजोर हो तो सोचिये की भविष्य क्या होगा । दरअसल सीएम आज चंदौली में होंगे और नरसिंह पुर स्थित विद्यालय का निरीक्षण भी करेंगे । स्कूल में तैयारियों का जायजा लेने जब  आमजा भारत के रिपोर्टर पहुंचे तो जो सामने आया वह काफी चौकने वाला है 
तश्वीरो में जो स्कूल आप देख रहे है यहां आज  सूबे के मुखिया प्राइमरी शिक्षा की गुणवत्ता परखेंगे  इस विद्यालय का सीएम योगी आदित्य नाथ आज निरीक्षण करेंगे । कही कोई भी कमी न दिखाई दे इसके लिए मॉडल स्कूल के तौर पर इसे सजाया जा रहा है । सीएम के सामने सबकुछ अच्छा रहे इसके लिए कक्षाओ में शिक्षक बच्चो की खूब तैयारी भी करा रहे हैं या कहिये रट्टा लगवाया जा रहा है। सबसे अधिक जोर बच्चो की अंगेजी सुधारने पर दिया जा रहा है ....लेकिन जरा एक नज़र इस क्लास में लगे बोर्ड पर डालिये ... कक्षा में पढ़ा रहे शिक्षक ने कैपिटल की स्पेलिंग कि  C A P P I T A LS लिखी है । अब तो समझ गए होंगे कि बच्चों को अंग्रेजी का कैसा ज्ञान दिया जा रहा है । साहब मिसेज को miss लिख रहे है  । वही पेंटिग वॉल पर बने चित्र सहित इंग्लिश की abcd में डॉल की इंग्लिश हो या केक की इंग्लिश हो,या तो फिर ऑरेंज की इंग्लिश  सरकारी शिक्षा विभाग महकमा को मुंह चिढ़ाते नजर आ रहे है। 
 सीएम के सामने सबकुछ बेहतर साबित करने में जुटे अध्यापक की पढ़ाई जिले की शिक्षा व्यवस्था की पोल खोलने के लिए काफी है बच्चो को रट्टा लगाया जा रहा है कि जब सीएम साहब पहुचे तो कम से कम बेसिक नालेज की जानकारी रहे। दरअसल चन्दौली का यह स्कूल मॉडल स्कूल है और मॉडल स्कूल में सबकुछ मॉर्डन है शायद यही वजह है कि छुट्टी के बाद बच्चो की क्लास ली जा रही है ताकि मुख्यमंत्री जब क्लास में जाये तो सब ठीक लगे।लेकिन साहब क्या पढ़ा रहे है सोचनीय विषय है।

 आयोग द्वारा चयनित अति पिछड़े जिले में शिक्षा व्यवस्था को बेहतर बताने के लिए रंग रोगन पर जमकर खर्च किया जा रहा है ,स्कूल में प्रोजेक्ट और इलेक्ट्रॉनिक बोर्ड लगाए जा रहे है यह दिखाने की कोशिश हो रही है कि सब अप टू मार्क है  लेकिन जब सवाल यह कि जब शिक्षक ही ऐसे है शिक्षा का स्तर सुधरेगा कैसे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट