AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शनिवार, 1 सितंबर 2018

टीबी रोग को दूर करने के लिये जनान्दोलन के रूप में चलाया जाए अभियान - डीएम

फतेहपुर, शमशाद खान । टीबी जैसी घातक बीमारी से बचाव के लिये लोगो को जागरूक किये जाने के साथ ही उनका परीक्षण कर रोगियों की पहचान किये जाने और उन्हें बेहतर इलाज एवं शासन की ओर से मिलने वाली आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जा रही है उक्त बातें जिलाधिकारी आंजनेय कुमार सिंह ने पत्रकारों से वार्ता के दौरान कही।
शनिवार को कलेक्ट्रेट स्थित गांधी सभागार में पत्रकार वार्ता के दौरान जिलाधिकारी आंजनेय कुमार सिंह ने बताया कि प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी देश से 2025 तक टीबी जैसी घातक बीमारी से मुक्त किये जाने के लिये संकल्पित है। जनपद को टीबी से मुक्त कराए जाने के लिये पुनरीक्षित राष्ट्रीय क्षय नियन्त्रित कार्यक्रम के तहत घर घर सक्रिय टीबी रोगियों की खोज के लिए दो चरणों 4 से 8 सितम्बर व  24 से 29 सितम्बर तक विशेष अभियान चलाकर टीमो द्वारा रोगियों की पहचान की जायेगी तीन सदस्यी 19 टीमो के माध्यम से जनपद में चलने वाले इस अभियान में 357 कार्यकर्ता एवं 27 पर्यवेक्षक लगाए गए है अभियान को गति देने के लिये सभी ब्लाकों में 13 नोडल अधिकारी बनाकर टीबी अभियान   की मॉनिटरिंग की जायेगी। उन्होंने बताया कि टीबी की सभी श्रेणियों का परीक्षण एवं इलाज सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर ही उपलब्ध कराया जा रहा है। मरीजो को दवाइयों को खिलाने के लिये आशा बहुओं एएनएम सेंटर, डाट प्रोबाइडरो एवं स्वयंसेवी संगठनों का सहयोग लिया जा रहा है। इलाज के शुरुआत में कुछ समस्याओ के करण दवाइयों को छोड़ देने से बीमारी की गंभीरता बढ़ जाती है जिसके लिये लोगो को जागरूक किये जाने पर जोर देते हुए मरीजों को अपनी दवाइयों को समय से लेने और कोर्स पूरा किये जाने एवं सतर्कता एवं सजगता बरतने का सदेश दिया। श्री सिंह ने बताया कि शासन द्वारा टीबी के मरीजों को दवाइयों के साथ साथ 500 रूपये की आर्थिक सहायता भी उपलब्ध कराई जा रही है जिससे मरीजों को इलाज के दौरान खान पान में सहायता मिल सकेगी। उन्होंने टीबी को जड़ से समाप्त किये जाने के लिये जंनान्दोलन के रूप में अभियान चलाये चलाये जाने का आह्वान किया। इस मौके पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा उमाकांत पाण्डेय, जिला क्षय रोग अधिकारी डा अरुण कुमार अग्रवाल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा विवेक निगम, महिला सीएमस डा रेखा रानी समेत स्वास्थ्य विभाग एवं जिला क्षय रोग विभाग के अधिकारी मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट