AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शनिवार, 13 अक्तूबर 2018

सम्पूर्ण बेसिक शिक्षा अव्यवस्था के घेरे में-डा0 यज्ञदत्त शर्मा

फतेहपुर, शमशाद खान । उत्तर प्रदेश की सम्पूर्ण बेसिक शिक्षा अव्यवस्था के घेरे में है। विद्यालयों में शिक्षकों की कमी है। नियुक्तियां नहीं हो पा रही हैं। 65000 हजार शिक्षकों की नियुक्तियां प्रारम्भ की गयी तो भारी गड़बड़ी सामने आयी और प्रमुख सचिव चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास संजय आर भूसरेड्डी की अध्यक्षता में सम्पन्न परीक्षा के समन्ध में जांच समिति गठित करनी पड़ी जिसके सम्बन्ध मंे अन्तिम फैसले के आधार पर नियुक्तियां बाकी हैं। 
इलाहाबाद से उरई जाते वक्त लोक निर्माण विभाग के डाग बंगले में मीडिया से बातचीन के दौरान उक्त तथ्य प्रकाश में लाते हुए इलाहाबाद-झांसी क्षेत्र के स्नातक विधायक एवं प्रधानाचार्य परिषद के संयोजक डाॅ0 यज्ञदत्त शर्मा ने कहा कि सम्पूर्ण बेसिक शिक्षा अव्यवस्था के घेरे में है और उसे व्यवासय बना दिया गया है। स्नातक विधायक का कहना है कि अध्यापक पात्रता परीक्षा टीईटी (टीचर एलीजिबिलिटी टेस्ट) पास करने के बाद शिक्षकों की नियुक्ति के लिए अलग से परीक्षा कराना नौकरशाही की योजना परीक्षा के ना पर अतिरिक्त पैसा पैदा करना है। डाॅ0 शर्मा का आरोप है कि अध्यापक पात्रता परीक्षा टीईटी के लिए पांच सौ रूपये प्रति परीक्षार्थी लिया जा रहा है जबकि एक प्रश्न पत्र होता है। एक प्रश्न पत्र के लिए पांच सौ की धनराशि और अठारह लाख से अधिक अभ्यर्थियों के आवेदन पत्र भरे जाने से लगभग नब्बे करोड़ रूपये आयेंगे। प्रश्न है क्या टीटी परीक्षा में नब्बे करोड़ व्यय हो जायेंगे, जो व्यवहारिक नहीं है, साफ है नौकरशाह और उनके साथ मिले ताकतवर लोग धन को हड़पने की योजना में लगे हैं इस सबकी उच्च स्तरीय जांच करके दोषियों को दण्डित किये जाने की आवश्यकता है। डाॅ0 शर्मा का कहना है कि हाई स्कूल में छः प्रश्न पत्रों के लिए दो सौ एक रूपये व इन्टर के पांच प्रश्नपत्रों के लिए दो सौ इक्कीस रूपये मात्र परीक्षा शुल्क है। इससे स्पष्ट है कि टीईटी परीक्षा की शुल्क में घपले की पूरी संभावना है। इस मौके पर शैलेन्द्र शरन सिम्पल प्रतिनिधि स्नातक विधायक, सुरेन्द्र पाठक, प्रमोद त्यागी, आनन्द सिंह, अमित गुप्ता आदि रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट