AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शनिवार, 13 अक्तूबर 2018

अध्ययन और अध्यापन के प्रति विद्यार्थियों एवं शिक्षकों की बराबर रूचि होना चाहिये

चित्रकूट, ललित त्रिपाठी । आज महात्मा गाॅंधी चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय के कुलसचिव डा. बी. भारती ने ग्रामीण विकास एवं प्रबंधन संकाय के औचक निरीक्षण के दौरान छात्र-छात्राओं का मार्गदर्शन करते हुये कहा कि विद्यार्थियों के अभिभावक जिस भावना के साथ ग्रामोदय विश्वविद्यालय में अपने बच्चों को भेजते हैं, उसको दृष्टिगत रखते हुये विद्यार्थियों को नियमित कक्षायें एवं समयबद्व अध्ययन करना चाहिये। डा. भारती ने व्यवसाय प्रबंधन के छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुये कहा कि अध्ययन और अध्यापन के प्रति विद्यार्थियों एवं शिक्षकों की बराबर रूचि होना चाहिये। हमें खुशी है कि इस विश्वविद्यालय में ऐसा हो रहा है। बावजूद इसके उन्होने विद्यार्थियों को संकोच एवं भय से मुक्त शिक्षा की सलाह दी। उन्होने कहा कि विद्यार्थियों को पूरी निष्ठा एवं ईमानदारी के साथ कडी मेहनत पढाई करनी चाहिये। विद्यार्थियों को शिक्षक, एवं प्रायोगिक संसाधन उपलब्ध कराना विश्वविद्यालय का दायित्व है। कुलपति प्रो. नरेश चन्द्र गौतम के नेत्रृत्व में संसाधन जुटाने एवं समयानुकूल शिक्षा के लिये विश्वविद्यालय अनेक परियोजनाओं को भी तैयार कर रहा है।
कुलसचिव डा. बी. भारती, जिन्होने अपना कैरियर एक शिक्षक के रूप में प्रारम्भ किया था, उच्च शिक्षा संस्थान में प्राध्यापन का भी अनुभव जिनके साथ है, ने आज व्यवसाय प्रबंधन के विद्यार्थियों की कक्षा भी ली। विद्यार्थियों से रूचिपूर्वक प्रश्न पूॅंछकर उत्तर भी प्राप्त किया। उन्होने कहा कि किसी भी प्रकार की असुविधा अथवा शैक्षणिक संसाधन की पूर्ति करने का दायित्व विश्वविद्यालय का है, जिसे हम पूरा कर रहे हैं। विद्यार्थियों का दायित्व है कि वे ठीक से पढाई करें, अच्छे नम्बर प्राप्त करें तथा रोजगारी,प्रतिस्पर्धा के वर्तमान काल में अपने को स्थापित भी करें।
इसके पूर्व कुलसचिव डा. वी.भारती ने प्रबधंन संकाय की उपस्थिति पंजिका का अवलोकन किया। अवकाश आदि अभिलेख देखे तथा संबंधित कर्मी को आवश्यक निर्देश भी दिये। औचन निरीक्षण के दौरान उपकुलसचिव डा. कुसुम कुमारी सिंह, मनोविज्ञान के प्राध्यापक डा. नंदलाल मिश्र, वाणिज्य के प्राध्यापक डा. वृजेश उपाध्याय एवं व्यवसाय प्रबंधन के प्राध्यापक डा. अरसिाया एवं संजय कुमार त्रिपाठी, अवधेश पटेल उपस्थित रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट