AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 24 अक्तूबर 2018

घायल सिपाही के इलाज के लिए तबरेज ने बढ़ाये अपने कदम

फतेहपुर, शमशाद खान । मार्ग दुर्घटना मे घायल हुए उत्तर प्रदेश का एक जवान बीते एक वर्ष से सरकार से मदद की गुहार लगा रहा है लेकिन उसकी मदद के लिए सरकार ने भले ही अब तक कोई कदम न उठाया हो लेकिन जैसे ही सोशल मीड़िया एवं चैनलों के माध्यम से जनपद के समाजसेवी तबरेज वारसी उर्फ टीलू को लगी तो वह पीड़ित सिपाही की मदद के लिए अपने कदम आगे बढ़ाते हुए घर-घर जाकर घायल सिपाही के इलाज के लिए चन्दा एकट्ठा करने मे जुट गये हैं। उनके इस सराहनीय कार्य लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है। 
बुधवार को पनी मोहल्ला स्थित अपने आवास मे पत्रकारों से बातचीत करते हुए समाजसेवी तबरेज वारसी उर्फ टीलू ने बताया कि कौशाम्बी जनपद का रहने वाला सिपाही लक्ष्मीकांत सोनी विगत एक वर्ष पूर्व लखनऊ मे मार्ग दुर्घटना मे घायल हो गया था जिसकी जान बचाने के लिए उसकी पत्नी अपनी जमा पूंजी और जेवरात बेंचकर अपने सुहाग को किसी तरह से मौत के मुंह से वापस तो ले आयी लेकिन लगातार एक वर्षों से उसका मंहगा इलाज होने की वजह से आर्थिक स्थित बहुत ही दयनीय हो चुकी है। जिससे अब उसके आगे अपने पति का इलाज कराना मुश्किल हो रहा है। तबरेज वारसी टीलू ने बताया कि बड़े-बड़े दावे करने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ भी घायल सिपाही की इलाज के लिए किसी भी तरह की राहत राशि नही दे सके हैं। जबकि घायल सिपाही की पत्नी कई बार मुख्यमंत्री से मदद की गुहार लगा चुकी है लेकिन सरकार द्वारा आर्थिक मदद न किये जाने से प्रदेश के सिपाहियों मे भी आक्रोश है जिसको लेकर सिपाहियों ने मन बनाया है कि वह अपने एक दिन का वेतन कटाकर घायल सिपाही के इलाज मे लगायेगे। श्री टीलू ने कहा कि यदि सरकार घायल सिपाही की मदद के लिए आगे नही आयी तो वह स्वयं इलाज के लिए घर-घर जाकर लोगों से चंदा एकट्ठा करने के साथ जो उनसे बन पड़ेगा धनराशि घायल की पत्नी को सौंपकर बेहतर इलाज कराया जायेगा। उन्होनें कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार सिपाहियों का दर्द नही समझती है जब जनता सोती है तब पुलिसकर्मी अपनी जान की जोखिम लेकर ड्यूटी करते हैं जिससे हम सभी लोग चैन की नींद सो पाते हैं। हर त्यौहार व चुनाव समेत अन्य कानून व्यवस्था को दुरूस्त रखने के लिए पुलिस कर्मियों को ही लगाया जाता है लेकिन जब कोई पुलिसकर्मी घायल हो जाता है तो उसका इलाज कराने के बजाय उसे तड़पता छोड दिया जाता है। समाजसेवी तबरेज वारसी ने कहा कि वह अपने स्तर से मुख्यमंत्री समेत शासन मे बैठे अधिकारियों को पत्र भेजकर जनपद कौशाम्बी के रहने वाले पुलिसकर्मी के इलाज की मदद की मांग करेगें। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट