AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

रविवार, 28 अक्तूबर 2018

भांग की आड में पुलिस की मिलीभगत से जनपद में गांजे का हो रहा काला कारोबार

फतेहपुर, शमशाद खान । पुलिस अधीक्षक राहुल राज के निर्देश पर मादक पादर्थो के कारोबारियों के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान के बावजूद  जनपद में बडे पैमाने पर कुछ पुलिस कर्मियों की मिलीभगत से अपने मादक पदार्थो की तस्करी को बडे पैमाने पर की जा रही है। पुलिस अधीक्षक के इस अभियान पर पानी फेरने में लगे हुए है। पुलिस की नाकामी के कारण जनपद एक बार फिर से नशे की गिरफ्त में आता जा रहा है और नशे के सौदागरों के लिये जन्नत बनता जा रहा है। जनपद के तीनो तहसीलों के लगभग सभी थाना क्षेत्रो में सरकारी आवंटित भांग की दुकानों में इलाकाई पुलिस की मिली भगत से प्रतिबंधित वस्तु गांजा की बिक्री की जा रही है। पुलिस कर्मियों और गांजा माफियाओ की सांठ गांठ की पकड़ इतनी मजबूत हो चुकी है कि इन्हें अब पुलिस के आला अफसरों का भी खौफ नही रह गया जिसके कारण यह खुले आम अपने गुर्गो के माध्यम से सरकार द्वारा आवंटित की गयी भांग की दुकानों से प्रतिबंधित गांजे की बिक्री करवाई जाती है। और बदले में हर माह माफियाओ की काली कमाई का एक बड़ा हिस्सा मिलता है। मात्र चन्द रुपयों के लिये अपना ईमान बेचने वाले पुलिस कर्मी इस काले कारनामे में बराबर के हिस्सेदार होते है। गांजा माफिया स्वयं तो सामने कभी नही आता जबकि उसके गुर्गे खुले आम पुलिस के आला अफसरों को चुनौती देते हुए गांजे की खेप को दुकानों तक पहुंचाते है। जानकारों के अनुसार माफियाओ की सम्बंधित थाना और चैकियों पर इतनी मजबूत पकड़ होती है कि जल्दी से पुलिस कभी इन जगहों पर छापा डालने की हिम्मत ही नही कर पाती और यदा कदा ऐसा किया भी जाता है तो पुलिस में अपनी पैठ बनाये हुए माफियाओ तक इसकी सूचना आसानी से पहुँच जाती है जहाँ पहुँचने पर पुलिस अफसरो को सब कुछ दुरुस्त ही मिलता है। पुलिस और गांजा माफियाओ के इस गठजोड़ से जनपद को नशे की गिरफ्त में आने और युवाओं के साथ साथ व्रधो के भी बड़ी तादात में सेवन करने से न केवल उनकी सेहत पर गंभीर असर हो रहा है बल्कि नशे के कारोबारियो के चन्द पैसो के लालच के कारण सैकड़ो परिवार बर्बादी की कगार पर आ चुके हैं। जिले की जनता एसपी राहुल राज से पुलिस और गांजा माफियाओ के इस गठजोड़ का पर्दाफाश करने के साथ ही जनपद में भांग की दुकानों में धड़ल्ले से बिक्री किये जां रहे गांजे रुपी जहर को रोकने के साथ ही गांजा माफियाओ के विरुद्ध कार्यवाही किये जाने और अपने परिवारों को नशे की इस बुरी लत बचाने की आस भी लगा रही है। सूत्रो की माने तो जनपद में भांग का ठेकेदार भूमिगत होकर अपने गुर्गो के माध्यम से गैर जनपद से गांजे की बडी खेप शहर समेत ग्रामीण क्षेत्रो में खपत कराने में जुटे रहते है यहा तक की गांजे की खपत को पूरा न करने की वजह से कुछ भांग की दुकानो में इन दिनों ताला भी लटकता नजर आ रहा है। इन दिनों देवीगंज ओवरब्रिज के नीचे आवटित भांग की दुकान में बडे पैमाने पर गांजे की बिक्री की जाती है और इलाकई पुलिस इस धन्धे को बाखूबी जानते हुये भी अन्जान बनी हुयी है। शीघ्र ही हम अपने समाचार पत्र में उस गांजा तस्कर की तस्वीर भी प्रकाशित करेंगे जो भांग के नाम पर युवा पीढी को गांजे की लत से बर्बाद करने में लगा हुआ है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट