AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 24 अक्तूबर 2018

धर्म नगरी में धूमधाम से मनाई गई रामायण के रचयिता महर्षि बाल्मीकि की जयंती

चित्रकूट, ललित त्रिपाठी ।  भगवान श्रीराम की तपोभूमि चित्रकूट के प्रवेश द्वार के रूप में विख्यात झाँसी -मिर्जापुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित लालपुर आश्रम  में बुधवार को साधू -संतो द्वारा बड़े धूमधाम के साथ रामायण के रचियता महर्षि बाल्मीकि की जयंती मनाई गई। इस मौके पर बाँदा -चित्रकूट सांसद और मानिकपुर विधायक आर के सिंह पटेल ने कहा की मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम के आदर्श को जन-जन तक पहुंचाने में महर्षि बाल्मीकि जी का अहम् योगदान रहा है। केंद्र  और प्रदेश सरकार रामायण सर्किट समेत कई योजनाओं के माध्यम से बाल्मीकि आश्रम को पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित करने के लिए कटिबद्ध है। रामायण की रचना कर भगवान श्रीराम की गौरवगाथा को जन -जन तक पहुँचाने वाले आदिकवि महर्षि बाल्मीकि जी की जयंती शरद पूर्णिमा के अवसर पर बुधवार को भगवान श्रीराम की तपोभूमि चित्रकूट स्थित बाल्मीकि आश्रम में बड़े ही धूमधाम के साथ मनाई गई।सर्वप्रथम लालपुर पर्वत पर स्थित आशावर देवी के मंदिर परिसर में रामायण के रचयिता महर्षि बाल्मीकि जी की विधिवत पूजन -अर्चन किया गया। इसके बाद आयोजित संगोष्ठी में महर्षि बाल्मीकि जी के जीवन चरित्र पर उपस्थित विद्वत जनों ने प्रकाश डाला। संगोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि मौजूद रहे दीन दयाल शोध संस्थान के संगठन सचिव अभय महाजन ने कहा कि आज का दिन धर्म नगरी चित्रकूट के लिए बड़ा ही गौरवशाली है। शरद पूर्णिमा के दिन ही रामायण के माध्यम से जन -जन तक मर्यादा का सन्देश देने वाले महर्षि बाल्मीकि की जयंती है। वहीँ आज ही देश भर में स्वावलम्बन की अलख जगाने वाले राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख का भी जन्मदिन है। विशिष्ट अतिथि रहे बाँदा -चित्रकूट के सांसद भैरों प्रसाद मिश्रा ने कहा कि रामायण की रचना कर महर्षि बाल्मीकि ने ऐतिहासिक कार्य किया था। राम के आदर्श को जन -जन तक पहुंचाने में महर्षि बाल्मीकि जी की अहम योगदान रहा है। उन्होंने कहा केंद्र सरकार द्वारा रामायण सर्किट योजना के माध्यम से महर्षि बाल्मीकि आश्रम लालापुर को पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित किया जायेगा। वहीं पूर्व मंत्री एवं मानिकपुर विधायक आर के सिंह पटेल ने कहा कि महर्षि बाल्मीकि जी की आश्रम लालापुर धर्म नगरी चित्रकूट का प्रवेश द्वार है। आश्रम को पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित करने के लिए केंद्र की मोदी और प्रदेश की योगी सरकार संकल्पित है। इसके अलावा आश्रम के विकास में विधायक निधि से भी हर संभव सहयोग करने का भरोसा दिलाया। इसके अलावा कामदगिरि प्रमुख द्वार के संत स्वामी मदन गोपाल दास महाराज,भरत मंदिर के महंत दिव्य जीवन दास एवं निर्मोही अखाड़ा के महंत ओंकार दास महाराज ने भी महर्षि बाल्मीकि के जीवन चरित पर प्रकाश डालते हुए केंद्र और प्रदेश सरकार आश्रम को पर्यटक स्थल के रूप में विकसित करने की मांग की गई। इसके अलावा अन्ना गायों के लिए गौ आश्रय शाला बनवाये जाने का सुझाव दिया। इसके अलावा बाल्मीकि आश्रम के महंत भरत दास जी महाराज ने बताया कि हर वर्ष की भाति इस वर्ष भी संस्कृत साहित्य के आदिकवि एवं रामायण के प्रणेता महर्षि बाल्मीकि जी की जयंती महोत्सव तपोस्थली वाल्मीकि आश्रम लालापुर स्थित आशावर देवी मंदिर परिसर में धूमधाम के मनाया गया। उन्होंने बताया कि सर्वप्रथम धर्म नगरी के साधू संतो द्वारा महर्षि बाल्मीकि जी का पूजन किया गया। संगोष्ठी के बाद रामनाम संकीर्तन के साथ साधू -संतो द्वारा लालापुर पर्वत की परिक्रमा लगाई गई।कार्यक्रम का संचालन राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित चंद्र दत्त पांडेय ने किया।

Attachments area

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट