AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

सोमवार, 15 अक्तूबर 2018

अम्बे तू है जगदम्बे काली जय दुर्गे खप्पर वाली तेरी उतारे हम आरती

फतेहपुर, शमशाद खान । यदि शक्ति श्रष्ठि स्वरूपा माॅ जगदम्बे की पूजा अर्चना कर क्रम नवरात्र महापर्व के छठवें दिन भी श्रद्धा विश्वास के साथ पूरे जिले में जारी रहा। इस दिन भक्तों ने महामायी के कत्यायन स्वरूप का दर्शन कर माॅ के दरबार में मुराद पूरी करने के लिए अर्जी लगाई दुर्गा पाण्डालों में सुबह से ही शंख, घण्टा घडियाल की स्वमधृर धुन गंूजती रही। जिले भर के दुर्गा मंदिरों शक्ति पीठों में जगत जननी का इस दिन भिन्न रूपों में स्वरूप सजाया गया आस्था के महासागर में हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने भक्ति भावना की डुबकी लगाई। माता कत्यायन के छठवें स्वरूप के दर्शन के लिए सुबह से लेकर शाम तक भक्ति भावना उमगें, तरंगें लोगो के मन में उमडती रहीं। जगह-जगह सजे दुर्गा पाण्डालों में भक्ति रसि की छटा विखरती रही सुबह जहां मंत्र उपचार के बाद षोड्स रिती रिवाज व वैदिक विधान के तहत माॅ की पूजा अर्चना की गयी। तो वहीं दूसरे पहर में दुर्गा पाण्डालों में महिलाओं किशोरियों, युवतियों ने माॅ की सजाई गयी मूर्तियों में रोशनी का ऐसा नूर उतरा जिसे देखकर सभी लोग हतप्रभ हो गये। जगह-जगह माॅ के स्वरूप को विद्युत की आकृषक झालरों से सजाया गया था। नवरात्र पर्व के छठवें दिन जगह-जगह पर कन्या भोज का आयोजन हुआ। कुंवारी कन्याओं का पूजन अर्चन कर उन्हें माता का स्वरूप मानते हुए लोगों ने उन्हें भोजन कराकर दान दक्षिण देते हुए आर्शीवाद लिया। वहीं सुहागिन महिलाओं ने पति के साथ गठ बंधन कर इन कुमारी कन्याओं को भोजन कराकर नवरात्र पर्व का विशेष लाभ अर्जित किया। यह क्रम कही एक जगह नही बल्कि जिले भर में छठवे दिन जारी रहा। सड़कों पर आकर्षक विद्युत सजावट के कारण देर रात तक सड़क पर स्त्री, पुरूष बच्चे आवागमन करते रहे। नवरात्र महापर्व में जहां शुभ कार्यो को करने का विधान है। ऐसे में विभिन्न सम्प्रदाय के लोगों ने विभिन्न जगहों पर विभिन्न प्रकार के शुभ कार्यो को करने का विधान है। ऐसे में विभिन्न सम्प्रदाय के लोगो ने विभिन्न प्रकार जगहों पर विभिन्न प्रकार के शुभ कार्य किये। जिसमें बच्चों का नामकरण, अन्य प्रशान मुण्डन, छेदन व वरीक्षा के कार्यक्रम भी शामिल रहे। माॅ के इस पुनित अवसर पर इस तरह के कार्य कर लोगों ने जीवन में सुख सम्ब्रद्धी की अर्जी माॅ के दरबार में लगायी। माता के भक्तों का मानना है कि नवरात्र दुर्गाकाल के रूप में होता है इस काल में किया गया कोई भी शुभ कार्य चिरातन समय तक मनुष्य को आनन्दित करता है इस मौके पर किये गये शुभ कार्य लोगों को सुफल मनोरथ की अभिभूत कराते है। नवरात्र पर्व के छठवे दिन जगत-जननी आदि शाक्ति माॅ भावानी का विशेष श्रंगार दुर्गा पाण्डालों में हुआ। राधानगर स्थित सार्वजनिक मां  दुर्गा महोत्सव समिति पुराना शिव मन्दिर में 23वें वर्ष पर कन्या भोज का आयोजन किया गयां जिसमे एक दर्जन विद्यालयों की कन्याओ ने प्रसाद ग्रहण किया। इस मौके पर पुत्तनलाल विश्वकर्मा, बबलू तिवारी, दिनेश गुप्ता, बबलू गुप्ता, सन्तोष गुप्ता, मनीष गुप्ता, गोल्डी गुप्ता आदि कन्याओ को भोज कराने में लगे रहे। इसी तरह चैक स्थित हनुमान मंदिर में महामायी का विशेष श्रगांर किया गया इसी तरह ठठराही में दुर्गा पाण्डाल में माॅ को भव्यता के साथ सजाया गया। तथा आबूनगर के दुर्गा पाण्डाल में भगवती का सुन्दर रूप सजाया गया। पटेल नगर में माता का स्वरूप सजा कर यहां माता वैष्णों की वर्फ गुफा के जरिये लोगों को दर्शन कराये गये। जयराम नगर में माॅ की सजावट आकर्षक विद्युत लाइटों से की गयी। राधा नगर में व देवीगंज में स्थित दुर्गा पाण्डालों में भी दुर्गा पाण्डालों में रखी दुर्गा प्रतिमाओं की आकर्षक रूप सज्जा की गयी। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट