AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

मंगलवार, 9 अक्तूबर 2018

नगर निगम वार्ड कार्यालय के सामने बने चट्टे से लोग परेशान

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता  -  पूरा कानपुर नगर अवैध चट्टो के संचालन के कारण परेशान है। नगर निगम द्वारा अभी तक अवैध चटटो को शहर से हटाने के लिए हीला-हवाली ही बरती गयी, परिणाम यह कि नये-नये चट्टे गली-मोहल्लो में खुलते चले गये। अब नगर निगम इन्ही चट्टो को शहर के बाहर करने की मुहिम चला रहा है और इन्हे कैटल कालोनी में शिफ्ट किया जा रहा है, लेकिन अभी भी नगर निगम के अधिकारियों द्वारा बरती जा रही लापरवाही नजर आ रही है।
             बकरमंडी ढाल के पास बने नगर निगम वार्ड कार्यालय के सामने ही चट्टा बना हुआ है, इस ओर किसी की नजर नही जा रही है। सूटरगंज क्षेत्र में सडको पर ही जानवरो को बांधा जाता है। पूरे क्षेत्र में सैकडो जानवर सडकों पर बधें रहते है। इन चटटो के कारण परेशान क्षेत्रीय नालियो में गोबर भरा हुआ है, सडकों पर फैले गोबर में दिनभर वाहन फिसलते है। यहां तक लोगो ने कह कि किसी नगर निगम अधिकारी को यहां से पैदल या वाहन लेकर निकवाया जाये उसे स्वयं समझ में आ जायेगा की राहगीरो और वाहन चालको को कितनी परेशानी होती होगी, वहीं कभी भी जानवर सींग मार देते है। दबंगो द्वारा चटटे को बीच सडक पर चलाया जा रहा है। ग्वालटोली पुलिस से अच्छे सम्बन्ध होने के कारण क्षेत्रीय लोग कुछ बोल पाने की हिम्मत नही जुटा पाते है। वहीं बकरमंडी में लोगों ने कहा कि कुछ दिन पहले भीषण सीवर चोक हो गया था, कई शिकायतें करने के बाद कार्यवाही नही हुई। लोगों ने कहा कि इस चटटे को तत्काल यहां से हटवाया जाये। आंकडो की माने तो शहर में 1200 चटटे है लेकिन इसके अलावा सैकडो चट्टे गली-कूचों में चल रहे है तो कई घरो में पले जानवर भी सडक किनारे ही बांधे जाते है। वहीं पशु चिकित्सा अधिकारी का कहना है कि चटटो को हटाये जाने का कार्य किया जा रहा है। शहर में चल रहे चटटो के लिए रणनीति बनाई जा रही है और अभियान चलाकर इन चट्टो को स्थानान्तरित किया जायेगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट