AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 31 अक्तूबर 2018

त्योहार, स्वास्थ्य एवं पर्यावरण पर संगोष्ठी का आयोजन

कानपुर नगर,  हरिओम गुप्ता -  आरोग्य धाम ग्वालटोली में दीपावली के अवसर पर जन जागरझा को जागरूक करने के लिए एक सेमिनार का आयेाजन किया गया, जिसका उददेश्य मिलावटी दुग्ध पदार्थो के सेवन से व अत्यधिक तेज ध्वनि के पटाकों से मानव जीवन के स्वास्थ्य पर पडने वाले दुष्प्रभावों पर विस्तृत से चर्चा करते हुए शहरवासियों को इससे आगाह किया गया। मुख्य अतिथि के रूप में अमेरिका में मैराइन इंजीनियर के पद पर कार्यरत प्रशान्त सक्सेना ने कानपुर वासियों को त्योहार के अवसर पर शहर में धूल, धुंए, प्रदूषण एवं ग्लोबल वार्मिग के खतरे को भांपते हुए कहा कि आने वाले समय में यह एक भयानक रूप धारा कर लेगा।
               उन्होने कहा चारो तरफ धूल के कारण लोगों के फेफडे छलनी हो गये है। बदलते मौसम के साथ दमा के और सैंसर के रोगी निरन्त बढते जा रहे है। आरोग्यधाम के वरिष्ठ डा0 हेमंत मोहन ने बताया कि त्योहार के समय मिलवट खोरी जोरो पर है। दूध में मैलामाइन नामक कैमिकल मिलाने से सफेद व मोटी मलाई जमा हो रही है जो कैंसर कारक है। इसका प्रभाव लीवर, किडनी, आंतो पर पडता है। कहा यह केमिकल छोटे बच्चों के मिल्क पाउडर में भी मिलाया जा रहा है। डा0 आरती मोहन ने बताया कि खोये को ताजा बनाये रखने के लिए फार्मेलिन के साथ अत्याधिक निरमा मिलाने से शरीर के अनेकों अंग फेल हो रहे हे।  वहीं कहा तेज ध्वनि पटाकों के कारण गभ्रवती महिलाओं के गर्भ में पल रहे नवजात शिशु के शारीरिक जीवन पर भी विपरीत प्रभाव पड रहा है। डा0 आरआर मोहन ने शहरवासियों को मिलावटी दुग्ध पदार्थो व तेज ध्वनि के पटाखों से दूर रहने की सलाह दी। अंत में बताया डेंगू की गंभीर से गंभीर अवस्था को 72 घंटे के अन्दर होम्योपैथिक दवाओं के द्वारा ठीक किया जा सकता है। कार्यक्रम में डा0 रीवन्द्र शुक्ला, डा0 मयंक सिंह, डा0 श्यामली गुप्ता, डा0 सौम्या अग्रवाल आदि उपस्थित रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट