AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

सोमवार, 1 अक्तूबर 2018

अंजुमन आशिकान-ए-शब्बीरिया ने शहीदाने कर्बला को पेश की खिराजे अकीदत

कानपुर नगर,  हरिओम गुप्ता - सोमवार को कर्नलगंज साईकिल मार्केट में अंजुमन आशिकाने शब्बीरिया के तत्वाधान में तजकिरा-ए-नवासा-ए-रसूल का जलसा सम्पन्न हुआ, जिसकी सरपरस्ती औलाद-ए-अकबर हजरत शाह मोहम्मद, मेहदी अता(खालिद मिंया)साहब व औलाद-ए-असगर आशिक-ए- रसूल पीरान-ए-तरीकत, इमाम सलोन हजरत शाह मोहम्मद, अशरफ अता मियां साहब सलोन ने की।
              मौलाना शाहाबुददीन साहब ने जलसे को खिताब करते हुए बताया कि हजरत इमाम हुसैन रजी, अल्लाह ताला अन्हो ने इस्लाम में सब्र, शांति, सच्चाई और इमान पर कायम रहते हुए सिर्फ एक अल्लाह की इबादत के लिए नमाज अदा की और दुनिया में इंसानियत, मानवता, प्रेम व भाई-चारा तथा एकता का संदेश दिया। हजरत इमाम हुसैन, रजी अल्लाह ताला अन्हो ने इस्लाम की सरबुलन्दि के लिए अपना पूरा खानदान शहीद कर दिया और खुद भी शहादत पाई, लेकिन यजीद से हाथ नही मिलाया। यजीद करबला का बादशाह था लेकिन उसने दुनिया में शराबखोरी, जुंआ ओैर हराम काम किया और हजरत इमाम हुसैन रजी अल्लाह ताला अन्होने इस्लाम को अपने खून से सींचा इसी लिये आज तक हम लोग उन्हे याद करते है। इस मौके पर अंजुमाने आशकाने शब्बीरिया के अध्यक्ष सेयद मो0 अयाज, सेमूखान, आरिफ अंसारी, हसनैन रजा, आतिफ सिददीकि मौजूद थे। संचालन शब्बीर कानपुरी ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट