AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 3 अक्तूबर 2018

ठण्ड के माह मे चिलचिलाती धूप से आवाम बेहाल, संक्रामक बीमारियों ने पसारा पांव

फतेहपुर, शमशाद खान । अक्टूबर माह की शुरुआत होने के बाद भी मौसम में अपेक्षित बदलाव न होने का कारण असहजता का माहौल है। अक्टूबर के मौसम में आम तौर पर जहाँ ठण्ड दस्तक दे देती थी वहीं इस समय चिलचिलाती धुप का निकलना जारी है जिससे लगातार गर्मी का माहौल बना हुआ है। भीषण गर्मी से आम जन मानस का जीना दूभर है। सड़क पर चलने वाले राहगीरों के अलावा महिलाओ एवं स्कूल आने जाने वाले बच्चे भीषण गर्मी का सामना करते हुए पसीने से तर बतर होने को मजबूर है। साथ ही घरों में कूलर एसी का चलना जारी है। वहीं दूसरी ओर मौसम में बदलाव न होने से तरह तरह की संक्रमक बीमारियों ने दस्तक देते हुए अपने पैर पसार रखे है। जिसके कारण अस्पतालों के ओपीडी में संक्रामक बीमारियों सरदर्द चक्कर, उल्टी, जुखाम, बुखार के मरीजों की संख्या बढ़ रही है तो साथ ही तेज बुखार,डायरिया, डेंगू समेत अन्य संक्रमक बीमारियों के मरीजों के भर्ती होने का सिलसिला भी जारी है। जलभराव, गन्दगी व मौसम में अचानक बदलाव या अनूकूल वातावरण के न मिलने के कारण होने वाली संक्रामक बीमारियों से लोगो को अनेको परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। जिला अस्पताल समेत सभी प्राइवेट अस्पतालों में सरदर्द, थकान, जुखाम, गले में दर्द होना, तेज बुखार, उल्टी, दस्त, डायरिया एवं डेंगू रोग से पीड़ित मरीजों की भीड़ उमड़ रही है। संक्रामक बीमारियों की चपेट में आये मरीजों को चिकित्सको द्वारा दी गई दवाइयों के नियमित सेवन के बाद ही आराम मिल रहा है। जिला अस्पताल के चिकित्सक डा केके पाण्डेय ने बताया कि मौसम के कारण फैली संक्रामक बीमारियों के कारण ओपीडी में मरीजों की भारी संख्या रहती है संक्रामक बीमारियों को पूरी तरह ठीक होने में कई बार दो से तीन सप्ताह तक का समय लग जाता है रोगी डॉक्टरों द्वारा दी गई दवाइयों का नियमित सेवन करे। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट