AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

गुरुवार, 1 नवंबर 2018

बद्दुआओं का असर, कांग्रेस लड रही अपने आस्तित्व को बचाने की लडाई

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता -  31 अक्टूबर 1984 में इन्दिरा गांधी की हत्या के बाद हुए सिखो के कत्लेआम के बाद सरकारो के द्वारा दोषियों को सजा न मिलने पर आक्रोश व्यक्त करते हुए गुमटी गुरूद्वारे के बाहर माईनाॅरिटीज वेलफेयर बोड तथा उ0प्र0 युवा सिक्ख संगठन के संयुक्त तत्वाधान में एक विशाल धरना दिया गया।
             धरने में बोर्ड के अध्यक्ष सरदार मोहकम सिंह ने कहा कि यह कत्लेआम पूर्ण रूप से कांग्रेस सरकार द्वारा प्रयोजित था। पूरे विश्व में किसी भी लोकतंत्र में इस तरह का जघन्य हत्याकाण्ड सरकार द्वारा करवाने की कोई मिसाल नही मिलती। उस समय प्रधामंत्री ने इस काण्ड को न्यायोचित यह कहकर किया कि जब कोई पडा पेड गिरता है तो धरती हिलती है। आज मासूमों विधवाओं व पीडित व्यक्तियों की बददुआओं का असर है कि कांग्रेस आज आस्तित्व की लडाई लड रही हैै। सरदार कवंल जीत सिंह मानू ने कहा कि कांग्रेस सरकार के बाद भी एनडीए की सरकारो ने भी दोषियों को सजा देने के लिए कोई ठोस प्रयत्न नही किये, सिर्फ घडियाली आंसू ही बहाये। कहा भाजपा उप मुख्यमंत्री डा0 दिनेश शर्मा ने कहा कि 1948 दंगे के अपराधियों को बुलेट से नही बैलेट से जवाब देना चाहिये लेकिन सिखो ने इस पर रोष प्रकट किया है क्योंकि डा0 शर्मा की केंद्र और राज्य में सरकार है लेकिन अपराधियों को दण्ड क्यों नही दिया गया और दगंगा पीडितों को अभी तक मुआवजा क्यों नही मिला। नरेन्दर सिंह मिन्टा ने कहा आज उस काले  िदन के 34 साल हो गये और न किसी सरकार ने मुआवजा दिया न दोषियों को सजा दी। मुख्मयंत्री योगी को सिखों के बलिदान की बात याद आई और एक साल से उनकी सरकार है लेकिन दंगा पीडित सिक्खो को न्याय नही मिला। धरने में मोनिका विलियम्स, कुलजीत कौर, मंजीत सिंह, राजू विलियम, प्रीती शर्मा, चन्नी सिंह, कै0 सिंह, लवली अरोडा, हरपाल सिंह, सतनाम सिंह, हरजिन्दर सिंह, सरबजीत सिंह, रजोन्द्र सिंह बिल्ला आदि उपस्थित रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट