AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

गुरुवार, 1 नवंबर 2018

खटिक समाज ने उत्पीड़न के विरोध मे धरना देकर सरकार से मांगा न्याय

फतेहपुर, शमशाद खान । अखिल भारतीय खटिक समाज के बैनर तले युवा प्रदेश अध्यक्ष राजेंश सोनकर की अगुवाई में खटिक समाज पर हो रहे अत्याचार व उत्पीड़न को लेकर नहर कालोनी में एक दिवसीय धरना देकर अपनी आवाज बुलंद किया। धरने में मुख्य अतिथि के रूप में राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद मुंशीराम पाल ने शिरकत की। धरने के सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष मुंशीराम पाल ने कहा कि प्रदेश में खटिक समाज पर अत्याचार किये जाने के साथ ही उत्पीड़न की घटनाएं बढ़ती जा रही है जनपद के धाता थाना क्षेत्र की निवासी नाबालिग बालिका अनीता सोनकर (काल्पनिक नाम) के साथ हुए बलात्कार की घटना पर पुलिस द्वारा लीपा पोती कर विधायक के प्रभाव में आरोपियो वीर अभिमन्यु उर्फ गजेंद्र सिंह  को बचाने का काम किया जा रहा है घटना के दो दिन बीत जाने  एवं धरना प्रदर्शन करने के उपरान्त भी मामूली घराओ में केस दर्ज किया गया जिसके आरोपी आज भी खुले आम घूम रहे है। उन्होंने कहा कि पुलिस द्वारा जाँच में नाबालिग के कपड़ो को सबूत के तौर पर जाँच में शामिल नही किया गया तो वहीं आरोपियो गजेंद्र सिंह द्वारा पीड़िता को लगातार जान से मारने की धमकी दी जा रही है। उन्होंने जाँच कर रहे अधिकारियो पर भेदभाव किये जाने का आरोप लगाते हुए पीड़िता को एक करोड़ मुआवजा व सरकारी नॉकरी दिलाये जाने की मांग किया। युवा राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश सोनकर ने कहा कि जनपद में घटी पूर्व की अन्य घटनाओं में भी पुलिस प्रशासन द्वारा खटिक समुदाय के लोगों को फर्जी तरीके से फंसाया गया है जिसे समाज कतई बर्दाश्त नही करेगा। उन्होंने मामले की जाँच सीबीआई या किसी अन्य विशेष जाँच एजेंसी से करा कर दोषियो को फांसी की सजा की दिलाये जाने की मांग किया। साथ की कहा यदि उनकी मांगों पर सरकार गंभीरता से विचार कर समस्याओ का निस्तारण नही करती है तो दिल्ली में समाज के लोगों द्वारा बड़ा आंदोलन किया जायेगा। इस मौके पर राजेंश सोनकर, मुंशीलाल पाल, सीएल सोनकर, अनिल रामबाबू सोनकर रविचक, रणवीर पवार, राम निवास समेत बड़ी संख्या महिलाएं व पुरुष मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट