AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

गुरुवार, 29 नवंबर 2018

जिलाधिकारी ने मौहार गांव का निरीक्षण कर जानी विकास की हकीकत

फतेहपुर, शमशाद खान । जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह ने विकास खंड मलवां के ग्राम पंचायत मौहार में भ्रमण करके निरीक्षण किया। ग्रामीण रामभरोसे सिंह के घर से दिनेश सिंह गौड़ के घर तक जाने वाले रास्ते को देखा जिसमें पाया गया कि दिनेश सिंह गौड़ द्वारा रास्ते में शिवमन्दिर बनवाया गया है। जिससे आवागमन में बाधा उत्पन्न होती है। उन्होने उपजिलाधिकारी बिन्दकी को निर्देश दिये कि उक्त व्यक्ति को समझा-बुझा कर मन्दिर हटवायेे। ग्राम प्रधान को निर्देश दिये कि अभी तक आपके द्वारा कराये गये कार्यो पर व्यय की गयी धनराशि का ब्यौरा उपलब्ध करायें तथा बनताहारी तालाब की पैमाइस करा, मनरेगा से खुदाई करायी जाय तथा गांव में टूटी नालियों की मरम्मत करायें। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के पास गोबर व बालू के काफी ढे़र पाये जाने पर सम्बन्धित को निर्देश दिये कि गोबर के गड्डे रास्ते से हटवाये जाय और गांव में वर्मी कम्पोस्ट गडडे बनवाकर जैविक खाद बनायी जाय। जिन लोगो द्वारा सरकारी हैण्डपम्पों में सबमर्सिबल मोटर लगाये है वह तत्काल हटा लें अन्यथा उनके विरूद्व कार्यवाही की जायेगी। बाबूलाल, सुखराम सिंह द्वारा बनाया जा रहा शौचालय को देखा जिसमें सीट नही पायी गयी उन्हे तत्काल सीट लगाये जाने के निर्देश दियें। चैडगरा चैराहे के निरीक्षण में पाया गया कि सड़क के किनारे नाली न होने के कारण जल भराव की स्थित बनी रहती है जिसे तत्काल बनाने के निर्देश एनएचआई को दियें। विकास खंड मलवां के ग्राम पंचायत औंग के किसान शैलेन्द्र सिंह पटेल पुत्र रामकिशन पटेल द्वारा 19 बीघा में अनार, केवांच की खेती को जिलाधिकारी ने देखा । उन्होने कहा कि अनार एवं केवांच की खेती औषधि की खेती है, जो बिना खाद के पैदा होती है। किसान भाई स्मार्ट होकर खेती के हर पहलू का अध्ययान करके खेती करे। किसान भाई बेसिक खेती के अलावा बागवानी भी करें जिससेे कैश भी मिल सकें। खेती में रिस्क है परन्तु ऐसी खेती करने पर एक खराब हो जाती है तो दूसरे से लाभ किसान भाई को मिलेगा। किसान सहफसली खेती करें, ताकि खेती से लाभ मिल सके। जनपद में बागवानी खेती की काफी सम्भावनाएं है इस पर बहुत कम काम हुआ है यहां की जमीन उपजाऊ के साथ लोग परिश्रमी भी है, बागवानी खेती करने पर यहां का किसान पंजाब से ज्यादा समृद्व हो सकता है। उन्होने स्प्रिंकलर और ड्रिप से सिंचाई करने पर जोर दिया। इस अवसर पर उपजिलाधिकारी बिन्दकी, सूचना अधिकारी एवं किसान उपस्थित रहें। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट