AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

गुरुवार, 8 नवंबर 2018

दीपावलीः बच्चों और युवाओं को भाती है आतिशबाजी

फतेहपुर, शमशाद खान । दीपावली में बच्चों के लिए जितना महत्व मिठाई का है उससे कम पटाखों और आतिशबाजी का नहीं है। रंग बिरंगी रोशनी से नहाये घरों के सामने और मुडेरों से पटाखे फोड़ना, मिशाइलें छोड़ना और अन्य प्रकार की देशी व चीनी आतिशबाजी का लुत्फ उठाना बच्चें का दीपावली में खास आकर्षण होता है। बच्चों की खुशी में उनके माता पिता से लेकर दादा-दादी तक भाग लेेते हैं और इसलिए दीवापली में आतिशबाजी पर ही जनपद में दो करोड़ के करीब की खरीददारी हो जाती है। इस बार पिछले वर्ष के मुकाबले महंगाई ने पटाखा बाजार पर भी शिकंजा कसा। बीस फीसदी तक कीमतें बढ़ने के बावजूद पटाखा बाजार पूरी तरह सजा संवरा रहा जहां लोग कई दिनों से खरीददारी कर रहे थे। प्रमुख बाजारों से लेकर कस्बों और गांवों तक में पटाखे और आतिशबाजी की अस्थाई दुकाने सैकड़ों की संख्या में सजी हुई है और दीपावली की खुशी में पटाखे फोड़ने के लिए बच्चे ही नहीं बल्कि युवा और बुजुर्ग भी बच्चों की खुशी की आड़ में जमकर खरीददारी करने के लिए जुटे हुए हैं। 
हालांकि प्रशासन ने अस्थाई अनुमति देते हुए ऐसे दुकानदारों को अग्निशमन की पर्याप्त व्यवस्था के साथ आबादी से दूर दुकान लगाने के लिए निर्देश दे रखे हैं लेकिन अधिक से अधिक बिक्री की चाहत में कुछ दुकाने आबादी क्षेत्रों और बाजार के इर्द गिर्द ही लगी हुई देखी जा सकती है। दीपावली की खुशी में कहीं बारूद का ढेर बनी ये दुकानें किसी बड़ी दुर्घटना का सबब न बन जाए। इसके लिए पुलिस की बराबर चैकसी और निर्देशों का कड़ाई से पालन कराये जाने की जद्दोजहद भी जारी है। दीपावली की खुशी में विस्फोटकों का प्रयोग परम्परागत ढंग से जारी है और गाहे-बगाहे होने वाली दुर्घटनाओं से प्रशासन भी संजीदा है, इसलिए पटाखे बेंचने वाली दुकानों को आबादी क्षेत्र से बाहर ही रखने पर प्रशासन का पूरा जोर है, फिर भी बिक्री के लालच में बाजारी क्षेत्र में लुका छिपी करके बेंचे जा रहे पटाखे और छिपाकर गया स्टाक किसी असावधानी के चलते बड़ी दुर्घटना का सबब बन सकता है। गौरतलब है कि शहरी प्रशासन ने इस बार भी आतिशबाजों को चैक क्षेत्र में फटकने नहीं दिया। आतिशबाजों को इस बार भी नगर पालिका की सब्जी मण्डी में अपनी दुकानें लगानी पड़ी जहां पर भी धनतेरस के एक दिन पहले से पटाखा शौकीनों की भीड़ लगी रही। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट