AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

सोमवार, 5 नवंबर 2018

धनतेरस पर जन्मी बेटियों को कायस्थ समाज ने भेंट किये उपहार

फतेहपुर, शमशाद खान । कायस्थ मंच एवं कायस्थ महासभा के संयुक्त तत्वाधान मे धनतेरस पर्व पर नई पहल की गई। इस पर्व पर जिला अस्पताल सहित विभिन्न नर्सिंग होमों मे जा-जाकर धनतेरस पर्व पर जन्मी बेटियों को उपहार दिया गया। इस तरह की शुरूआत को सभ ने सराहा तो बेटियों के माता पिता ने कहा कि हमे आज गर्व हो रहा है कि हमारे यहां बेटी के जन्म लेते ही उपहार मिलने लगे। कायस्थ महासभा के कार्यवाहक अध्यक्ष विवेक श्रीवास्तव व युवा अध्यक्ष डा0 अनुराग श्रीवास्तव के नेतृत्व मे ये निर्णय लिया गया कि संरक्षक मंडल के वरिष्ठ सदस्य शैलेश कुमार श्रीवास्तव, लक्ष्मीकांत श्रीवास्तव के नेतृत्व मे ये कार्य किया जायेगा। इस दौरान उपहार स्वरूप बेटियों के जन्म पर उन्हें बेबी की पूरी किट व दूध की बोतल दी गई। जिससे उस बेटी की देखरेख उनके माता पिता उस किट से करीब दो महीने तक कर सकते हैं। इस दौरान कायस्थ महासभा की पूरी टीम के सहयोग व विश्वास ने और लोगों को भी प्रेरणा देने का काम किया ताकि लोग इस तरह का वीणा उठाकर नेक कार्य कर सके। जिला अस्पताल, रामसनेही मेमोरियल हास्पिटल, मिशन हास्पिटल, अल्का नर्सिंग होम, स्मिता नर्सिंग होम, करूणा जीवन ज्योति नर्सिंग होम, श्याम नर्सिंग होम सहित अन्य नर्सिंग होम मे जाकर आज जन्मी बेटियों को उपहार दिए गय। इस अवसर पर विनोद श्रीवास्तव, लक्ष्मीकांत श्रीवास्तव, राकेश सिन्हा, कार्यवाहक अध्यक्ष विवेक श्रीवास्तव, युवा अध्यक्ष डा0 अनुराग श्रीवास्तव, श्रवण श्रीवास्तव, प्रमोद श्रीवास्तव, डा0 विवेक श्रीवास्तव, सुजीत सिन्हा, डा0 देवेन्द्र श्रीवास्तव, अतुल श्रीवास्तव, डा0 शैलेन्द्र श्रीवास्तव, संजीव श्रीवास्तव, सन्दीप श्रीवास्तव, अमित श्रीवास्तव, राहुल चित्रांशी आदि मौजूद रहे। इस दौरान कार्यक्रम के बाद गोष्ठी का अयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता कार्यवाहक अध्यक्ष विनोद श्रीवास्तव ने किया और संचालन युवा उपाध्यक्ष डीके श्रीवास्तव मे किया। कार्यक्रम मे ये भी कहा गया कि दीपावली पर्व खुशियों का पर्व है, रोशनी बिखेरने का पर्व है इसलिए हो सके तो अपने आसपास जो भी निर्धन लोग हो उनके यहां भी खुशियों का दीप जलाने का काम करें। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट