AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

सोमवार, 5 नवंबर 2018

पंचगव्य की मूर्ति की बताई विशेषताएं

कानपुर नगर,  हरिओम गुप्ता - श्री प्रखर परोपकार मिशन ट्रस्ट के तत्वाधान में स्वामी प्रखरजी महाराज के सानिध्य में कृष्ण धाम पार्वती बांग्ला रोड में कानपुर गौशाला सोसायटी द्वारा निर्मित पंचगव्य से उत्पादित गणेश लक्ष्मी की मूर्ति को उन्हे भेंट किया गया।
          महाराज जी ने पंचगव्य के गणेश लक्ष्मी की मूर्ति पर कहा पंचगव्य की मूर्ति की पूजा पंचभूतात्मक होने तथा गोबर में लक्ष्मी का वास होने से लक्ष्मी तथा एश्वर्य की प्राप्ति हेतु की जाती है। कहा ऐसी मान्यता यूं ही नही है इस संदर्भ में एक कथा का वर्णन भी किया। कहा जहां देशी गाय के गोबर का इस्तेमाल होता है वहां पर रेडियेशन का कोई असर नही होता। यही कारण है  कि हिरोशिमा में जो मकान गाय के गोबर से लिपे थे उन पर अणु बम का कम असर हुआ। कहा पंचगव्य मूर्ति इकोफ्रेंडली होती है। इससे पर्यावरण भी शुद्ध रहता है। इनमें हर्बल कलरों का इसतेमाल किया गया है। साथ ही कहा ज्यादा आवाज वाले पटाखें न छुडाएं और मिटटी के दियों में दीपक जलाय जिससे पर्यावरण भी ठीक रहेगा और रोजगार भी सृजन होगा। इस अवसर पर मनीष गर्ग, अनिल गर्ग, अजय बंसल, अमित मित्तल, स्वाति कनोडिया, स्निग्धा अग्रवाल, रवि निषाद, प्रदीप नेमानी आदि मौजूद रहे।
                                                      

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट