AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

गुरुवार, 8 नवंबर 2018

मिलावटी दूध का धन्धा थमने का नही ले रहा नाम

फतेहपुर, शमशाद खान । खागा तहसील क्षेत्र में गांवों से दूध लाकर बिक्री करने वाले दुधिया दूध में पानी ही नहीं बल्कि उसकी क्रीम निकालने के बाद उसमें केमिकल निरमा पावडर के अलावा अरारोट मिलाकर घर घर बीमारी बांटने का काम कर रहे है। इनकी ओर किसी की निगाह नहीं पड़ रही है। जानकारी के अनुसार तहसील क्षेत्र में दर्जनों की संख्या से ज्यादा दुधिया किसाने से दूध लाकर दूध बेंचने का काम करते है। लेकिन दुधिया दूध को शहर में लाने के बाद पहले उस दूध की क्रीम को निकलवा लेते है फिर उसमें केमिकल निरमा पावडर अरारोट आदि की मिलावट करके उस दूध को मोटा करते है इस मिलावटी दूध केा तैयार करने के बाद इसको घर घर जाकर अपने अपने ग्राहको को पहुंचाने का कार्य करते है। तथा अन्त में जो दूध शेष बचता है उसे चाय बनाने वाले दुकान दारो को दे देते है। अगर दूध की मात्रा गा्रहको को देने के लिये कम पड़ती हो तो उसमें अपनी इच्छानुसार पानी भी मिला देते है और दूध की मात्रा को पूरा कर लेते है। इस तरह से जहरीला दूध बनाकर बिक्री करने वाले इन दुधियाओं की तरफ खाद्य निरीक्षकों की निगाह नहीं जा रही है। यह सभी दूधिया दूध के नाम पर जहर बेंच रहे है और घर घर बीमारी की दावत बांट रहे है। खाद्य निरीक्षक के पहले तो दर्शन ही नहीं होते अगर होते भी है तो किसी एक स्थान में बैठ जाते है और इनके आने की तुरन्त सूचना जरिये मोबाइल सभी दुकानदारो को हो जाती है और दकानदार अपने अपने सटर तुरन्त गिरा देते है। तथा दूध की बिक्री करने वाले दुधिया शहर में घुसते ही नही है जब इन सब दुधियों को खाद्य निरक्षकों के जाने की सूचना हो जाती है तब यह दुधिया शहर पहुंचकर अपने ग्राहकों को दूध देकर निकल जाते है। इस कारण से यह सभी दुधिया कार्य वाही से बबच जाते है। इनके द्वारा दूध का सेवन करने वाले लोग आये दिन बीमार होते रहते है। क्योकि यह बीमारी होते रहते है। क्योकि यह बीमारी धीरे धीरे लोगों में अटैक करती है और एक दिन बड़ी बीमारी का रूप ले लेती है। जिससे आम आदमी परेशान हो जाता है। अगर खाद्य निरीक्षक तनिक भी अपनी निगाह टेडी कर ले तो सबका जीवन सुरक्षित रह सकता है। और लोग परेशानी से बच सकते है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट