AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

मंगलवार, 4 दिसंबर 2018

करोडो के घाटाले पर जिम्मेदार विभाग मौन

कानपुर नगर, हरिओम गुप्ता - डीबीएस महाविधालय, गोविन्द नगर में हुए करोडो रूपयो के भ्रष्टाचार की शिकायत प्रधानंत्री, सूबे के मुख्यमंत्री, राज्यपाल, जिलाधिकारी, कुलपति छत्रपति शाहू जी महाराज, क्षेत्रीय उच्च शिक्षाधिकारी, निदेशक उच्च शिक्षा से करने पर भी आज तक कोई जांच अधिकारियों द्वारा न कराये जाने, कार्यवाही न होने तथा पोर्टल पर दर्ज शिकायतों की जांच के सम्बन्ध में क्षेत्रीय उच्च शिक्षाधिकारी द्वारा केवल खानापूर्ति करने से झुब्ध होकर जितेन्द्र कुमार श्रीवास्तव, लेखाकार डीबीएस कालेज ने छत्रपति शाहू ही महाराज विश्वविधालय के गेट पर धरने पर बैठ गये।
          जितेन्द्र कुमार ने बताया कि किसी भी महाविधालय में संचालित किसी भी खाते या बिल बाउचर की कोई जाचं नही की गयी, केवल जांच के नाम पर स्पेशल आडिट क लिए निदेशक उच्च शिक्षा को पत्राचार किया और 6 माह बीतने पर कोई कार्यवाही नही हुई। कहा यदि जांच हो तो वीडियोग्राफी उनके सामने करे, क्योंकि  वह स्वयं महाविधालय में लेखाकर के पद पर कार्यरत है और भ्रष्टाचार को पूरी तरह जानते है। कहा यदि सही कार्यवाही होती तो आज सभी भ्रष्टाचारी पकड जाते। लगातार शिकायत के बाद भी किसी के कान में जूं नही रेंग रही है। बताया प्रमुख सचिव, मुख्य सचिव निदेशक उच्च शिक्षा, जिलाधिकारी आदि भी अपनी आंख बंद किये हुए है। कहा भ्रष्ट्राचार को खत्म करने की बात करने वाली सरकार में यह हाल है जो सरकार की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान है। इस लिए वह पूरे सिस्टम के विरोध में धरने पर बैठे है। कहा यदि इसके बाद भी कोई कार्यवाही नही होगी तो वह सीएम आवास, लखनऊ जाकर धरने पर बैठेंगे। अब सवाल यह उठता है कि एक विभागीय आदमी जो सारे भेष्टचार के खेल से अवगत है और चाहता है कि यह खेल उजागर हो लेकिन शायद सम्बन्धित अधिकारी भी पूरे सिस्टम में कहीं न कहीं लिप्त है, वर्ना 6 माह बीतने के बाद भी आज तक कोई कार्यवाही नही हुई और जिसके कारण जितेन्द्र कुमार श्रीवास्तव को छत्रपति शाहू जी महाराज विश्विधालय के मुख्य द्वार पर धरना देना पडा यह सरकारी तंत्र के साथ सरकार की कार्यप्रणाली पर एक बडा सवालिया निशान है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट