AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शुक्रवार, 1 फ़रवरी 2019

झोलाछाप डाक्टर द्वारा गलत इंजेक्शन लगाने से मरीज की मौत

फतेहपुर, शमशाद खान । जनपद में इन दिनों झोलाछाप डाक्टरों की बाढ़ आ गयी है। इन झोलाछाप डाक्टरों पर स्वास्थ्य महकमे द्वारा लगाम न लगाये जाने से इसका खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ रहा है। आये दिन इन झोलाछाप चिकित्सकांे के उपचार से मरीजों की जान जा रही है। लेकिन स्वास्थ्य महकमा अपनी आंखों में पट्टी बांधे हुए है। इसी क्रम में शुक्रवार को सदर कोतवाली क्षेत्र के लोधीगंज इलाके में फर्जी डिग्री के दम पर क्लीनिक चला रहे झोलाछाप डाक्टर के यहां मरीज को अपनी जान गंवानी पड़ी। परिजनों ने क्लीनिक में जमकर हंगामा काटा। वहीं पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर माच्र्युरी हाउस में रखवा दिया। पुलिस ने क्लीनिक को बंद कराकर जहां डाक्टर को हिरासत में ले लिया। वहीं परिजन व डाक्टर देर रात तक समझौते के प्रयासों में जुटे रहे। 
जानकारी के अनुसार सदर कोतवाली क्षेत्र के अजगवां निवासी बेनी माधव पुत्र स्व0 बाबूलाल पासवान कैंसर के रोग से पीड़ित था। बताते हैं कि पिछले तीन माह से लोधीगंज स्थित होम्योपैथिक चिकित्सक के यहां इलाज करा रहा था। शुक्रवार की सुबह लगभग दस बजे वह साइकिल से चिकित्सक के यहां इंजेक्शन लगवाने आया था। झोलाछाप डाक्टर ने जैसे ही उसे इंजेक्शन लगाया उसकी हालत बिगड़ने लगी और उसने क्लीनिक मंे ही दम तोड़ दिया। जब इसकी जानकारी परिजनों को हुयी तो वह तत्काल क्लीनिक पहुंचे और जमकर हंगामा काटना शुरू कर दिया। परिजनों का कहना रहा कि झोलाछाप डाक्टर ने मरीज को गलत इंजेक्शन लगा दिया है जिसके चलते ही बेनी माधव की मौत हो गयी है। तभी इसकी जानकारी पुलिस को मिल गयी। कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची और परिजनों को शांत करवाकर शव को कब्जे में लेकर सदर अस्पताल के माच्र्युरी हाउस पहुंचा दिया। वही पुलिस क्लीनिक में ताला डलवाकर झोलाछाप को हिरासत में लेकर कोतवाली ले आयी। वहीं परिजन भी कोतवाली पहुंच गये। जहां देर शाम तक परिजनों व झोलाछाप के बीच समझौते का प्रयास चलता रहा। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट