AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

शुक्रवार, 1 मार्च 2019

कृषि मेला में वैज्ञानिकों ने किसानों को आय बढ़ाने के दिए टिप्स

फतेहपुर, शमशाद खान । केंद्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा किसानों की आय दोगुनी किए जाने के लिए खेती की लागत कम करने के साथ ही ऊपर बड़ा जाने के लिए अनेक योजनाएं एव कार्यक्रम संचालित किये जा रहे है। जिसके क्रम में शुक्रवार को कृषि भवन में चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय के तत्वधान में कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा विराट कृषि मेला एवं प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। जिसमें कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को जैविक खेती अपनाने खेती की लागत कम करने की जानकारी दी गयी। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में कृषि राज्यमंत्री राघवेंद्र प्रताप उर्फ धुन्नी सिंह ने शिरकत की। वहीं कार्यक्रम की अध्यक्षता सदर विधायक विक्रम सिंह ने की। विराट कृषि मेले एवं प्रदर्शनी में कृषि विज्ञान केंद्र थरियांव, पंजाब कृषि विश्वविद्यालय व भारतीय दलहन अनुसंधान के कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों को खेती से आये बढ़ाने के साथ बीजों के चयन, सिंचाई के साथ-साथ रासायनिक खादों के प्रयोग की जगह जैविक खादों को अपनाए जाने व कम समय में तैयार होने वाली फसलों व उनके बीजों की जानकारी दी। सरकार द्वारा किसानों के लिए चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी देने के लिए कृषि विभाग, उद्यान विभाग, बागबानी, पशु विभाग, रेशम, पशुपालन समेत अन्य विभागों द्वारा स्टॉल लगाए गए थे। वहीं समूह आधारित गृह उद्योगों के उत्पादों को भी प्रदर्शनी के माध्यम से प्रस्तुत किया गया। जिन्हें मुख्य अतिथि द्वारा सम्मानित कर उत्साहवर्धन किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि कृषि राज्यमंत्री राघवेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि केंद्र एवं प्रदेश सरकार किसानों की आय बहाए जाने के लिए तत्पर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने कहा कि किसान उन्नत बीज एवं वैज्ञानिक तरीकों से खेती करे व रासायनिक खादो की जगह गोबर की खाद का प्रयोग करने से एवं कम समय में तैयार होने वाली उन्नत प्रमाणित वैज्ञानिकों का बीजो का प्रयोग कर अपनी आय बढ़ा सकते हैं। उन्होंने गोमूत्र एवं गाय के गोबर का प्रयोग को बढ़ाकर किसानो से लागत कम करने का आह्वान किया। वही प्रगतिशील किसानों द्वारा भी खेती संबंधित अपने अनुभव साझा किए गए। इस मौके पर कृषि वैज्ञानिक डा सत्यपाल सैनी, डा. उमा शाह, डा नौशाद आलम, डा देवेंद्र स्वरूप, साधना वैश्य, कृषि निर्देशक एसके पाठक, जिला उद्यान अधिकारी एसके यादव, विवेक कुमार, संजय कुमार, आरएस कुशवाहा, रिचअर्य फार्मर प्रोड्यूसर कम्पनी के निदेशक अनिल श्रीवास्तव, राम सिंह, रमेश द्विवेदी, अनीता द्विवेदी, शिवा यादव, धूम सिंह, समाजसेवी एवं किसान अशोक तपस्वी समेत बड़ी संख्या में किसान मौजूद रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट