AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

मंगलवार, 12 मार्च 2019

आदर्श आचार संहिता लागू होने पर जनपद का किया मुआयना

 चित्रकूट, ललित किशोर त्रिपाठी - अपर जिला मजिस्ट्रेट श्री जी0पी0 सिंह ने बताया कि लोकसभा सामान्य निर्वाचन 2019 की घोषणा भारतीय निर्वाचन आयोग द्वारा की जा चुकी है तथा जनपद चित्रकूट सहित पूरे देश में आदर्श आचार संहिता लागू हो चुकी है। मतदान के उपरान्त मतगणना का कार्य दिनांकः 23.05.2019 से प्रारम्भ होगा और तत्पश्चात चुनाव परिणामों की घोषणा की जायेगी। चुनाव परिणामों की घोषणा होते ही जनपद में विभिन्न राजनैतिक दलों के समर्थकों द्वारा प्रतिक्रिया व्यक्त किये जाने के फलस्वरूप अप्रिय घटनाओं के घटित होने की संभावना बनी रहती है। यह भी संभावना रहती है कि समर्थकांे द्वारा आतिशबाजी या वर्ग विशेष पर कटाक्ष किया जाय, जिससे कतिपय लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंच सकती है और कानून व शांति व्यवस्था प्रभावित हो सकती है। जिसके परिपे्रक्ष्य में इस प्रकार की गतिविधियों विशेषकर जुलूस आदि पर कठोर एवं प्रभावी अंकुश लगाया जाना आवश्यक है। इसके अलावा आतंकवादी संगठनो की गतिविधियों को दृष्टिगत रखते हुये निरोधात्मक कार्यवाही किया जाना आवश्यक है। 
   अपर जिला मजिस्टेªट, चित्रकूट एतद्द्वारा जनपद चित्रकूट में तात्कालिक प्रभाव से दिनांक 31.05.2019  तक की अवधि के लिए, यदि इससे पहले वापस न ले ली जाए, सी0आर0पी0सी0 की धारा-144 के अन्तर्गत अधिकारों का प्रयोग करते हुए निम्न आदेश पारित करता हूॅ जिसमें 23.05.2019 को चुनाव परिणामों के घोषणा के उपरान्त कोई भी व्यक्ति/ राजनैतिक दल/प्रत्याशी आदि किसी भी प्रकार का विजय जुलूस नही निकालेगा न ही आतिशबाजी करेगा और न ही वर्ग विशेष पर कटाक्ष करेगा, कोई भी व्यक्ति आग्नेयास्त्र, शस्त्र, लाठी, चाकू, हाकी, स्टिक, भुजाली, तलवार तथा अन्य तेज धार वाला अस्त्र चाकू (जिसका फल ढाई इन्च से अधिक न हो) पटाखे, बम और किसी भी प्रकार का बारूद वाला अस्त्र, जिसका प्रयोग हिंसा के लिए किया जा सके, लेकर नहीं चलेगा और न ही ईंट, पत्थर, रोड़े एकत्र करेगा, किन्तु शस्त्र अथवा लाठी लेकर चलने का प्रतिबंध ड्यूटी पर लगे पुलिस कर्मियों तथा वृद्ध एवं विकलांग व्यक्तियों पर नहीं होगा, कोई भी व्यक्ति जिला मजिस्टेªट/अधोहस्ताक्षरी/क्षेत्रीय कार्यकारी मजिस्ट्रेट की पूर्व अनुमति प्राप्त किये बिना ना तो 05 या इससे अधिक व्यक्तियों के समूह में अन्य किसी प्रकार का जुलूस निकालेगा और न ही किसी सार्वजनिक स्थान पर एक उददेश्य से 05 या इससे अधिक व्यक्तियों का समूह बनायेगा और न ही ऐसे किसी समूह में सम्मिलित होगा। विवाह उत्सव, शव यात्रा सम्बन्धित जुलूस या उ0प्र0 शासन के विभिन्न विभागो के प्रबन्धाधीन प्रेक्षागृहों के अन्दर आयोजित सांस्कृतिक व एकेडमिक कार्यक्रम इस प्रतिबंध से मुक्त रहेगें, कोई भी व्यक्ति 10 बजे रात्रि से प्रातः 6.00 बजे के बीच लाउडस्पीकर का प्रयोग नहीं करेगा। लाउडस्पीकर या ध्वनि विस्तारक यंत्र का प्रयोग बिना जिला मजिस्टेªट/ अधोहस्ताक्षरी/उप जिला मजिस्टेªट कर्वी/मऊ/मानिकपुर/राजापुर की पूर्व अनुमति प्राप्त किये नहीं करेगा तथा उत्तेजनापूर्ण एवं धार्मिक उन्माद पैदा करने वाला भाषण नहीं देगा और न ही ऐसे भड़काने वाले शब्दों का प्रयोग करेगा, जिससे शान्ति भंग होने का अंदेशा हो अथवा जिससे वर्ग विशेष या सम्प्रदाय विशेष में आक्रोश की स्थिति होना सम्भव हो, कोई भी व्यक्ति राजकीय सम्पत्ति को किसी भी प्रकार क्षति नहीं पहुॅचायेगा और न ही गन्दा करेंगे। किसी भी सरकारी/अर्धसरकारी/निगमों के भवनों पर इश्तहार अभिलेखन नहीं करेंगे और न ही पोस्टर व पर्चे चिपकायेंगे और न ही बैनर व झण्डा लगायेंगे, कोई भी व्यक्ति विवरण पत्रिका/पुस्तक या लेख/पम्पलेट व पोस्टर आदि न तो छपवायेगा और न ही वितरण करेगा, जिससे किसी व्यक्ति या समूह से घृणा, हिंसा या द्वेष या भड़काने वाली भावना का संचार होना संभव हो। कोई भी व्यक्ति किसी महापुरूष, देवी-देवता आदि का प्रत्यक्ष या परोक्ष किसी भी रूप से अनादर का प्रयास नही करेगा। जनसामान्य को भड़काने वाली अथवा दिग्भ्रमित करने वाली कोई अफवाह नही फैलायेगा, कोई भी पोस्टर या पम्पलेट ऐसा नहीं छापा जायेगा या प्रचारित या प्रसारित किया जायेगा, जिस पर प्रकाशक एवं मुद्रक पे्रस का नाम न लिखा हो, कोई भी व्यक्ति शराब आदि मादक पदार्थों का सेवन कर सार्वजनिक स्थलों पर किसी भी प्रकार का उत्पात या प्रदर्शन नहीं करेगा और न ही जुंआ खेलने जैसे घृणित कार्य करने की चेष्टा करेगा, कोई भी व्यक्ति किसी समुदाय अथवा व्यक्ति अथवा अपने राजनैतिक प्रतिद्वंदियों के प्रति अपशब्दों अथवा अमर्यादित भाषा का प्रयोग नहीं करेगा और न ही ऐसे नारे आदि का प्रयोग करेगा, जिससे शान्ति व्यवस्था भंग होने की संभावना हो, निर्वाचन की घोषणा के पश्चात तथा निर्वाचन की प्रक्रिया समाप्त होने तक कोई भी व्यक्ति/राजनैतिक दल/प्रत्याशी आदि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी आदर्श आचार संहिता का अनुपालन करेगा तथा उसका उल्लंघन नही करेगा, कोई भी राजनैतिक दल, प्रत्याशी या उसका समर्थक या अन्य कोई भी व्यक्ति सरकारी व सार्वजनिक सम्पत्ति को विरूपित नही करेगा तथा निर्वाचन की शुचिता को बनाये रखेगा, कोई भी व्यक्ति ऐसिड अथवा ऐसा पदार्थ जो बारूद बनाने के लिए प्रयुक्त किया जा सके, एकत्र नहंी करेगा और न ही उसका भण्डारण करेगा एवं कोई भी व्यक्ति किसी प्रकार की अफवाह न तो स्वयं फैलायेगा और न किसी दूसरे को अफवाह फैलाने की पे्ररणा देगा, कोई भी व्यक्ति चार पहिया वाहन की छत पर बैठकर यात्रा नही करेगा और दो पहिया वाहनों पर दो से अधिक व्यक्ति बैठाकर यात्रा नही करेगा, इसके अतिरिक्त भारत निर्वाचन आयोग द्वारा समय-समय पर दिये गये आदेश/निर्देश का अनुपालन सुनिश्चित करना होगा, उपरोक्त आदेश को तत्कालिक रूप से पारित करने की आवश्यकता है, ऐसी दशा में समय की कमी के कारण समस्त सम्बन्धितो को समय से सूचित कर किसी अन्य पक्ष को सुना जाना सम्भव नही है। अतः आदेश एक पक्षीय रूप से पारित किये जा रहे हैं। यदि कोई व्यक्ति इस आदेश के सम्बन्ध में कोई आवेदन करना चाहे या छूट अथवा शिथिलता चाहे तो उसे सम्बन्धित उप जिला मजिस्ट्रेट/अधोहस्ताक्षरी के सम्मुख आवेदन करने का अधिकार होगा। जिस पर सम्यक सुनवाई/विचारोपरान्त प्रार्थना पत्र के सम्बन्ध में समुचित आदेश पारित किये जायेगें। यह आदेश तत्काल प्रभाव से जनपद चित्रकूट की सम्पूर्ण सीमा क्षेत्र में लागू होगा और यदि बीच में वापस न लिया गया तो पूर्व में निर्गत आदेश संख्या-1860/सात-न्याय सहायक/2019, दिनांकः 02.02.2019 को अवक्रमित करते हुये दिनांकः 31.05.2019 तक प्रभावी रहेगा, इस आदेश अथवा इसके किसी भी अंश का उल्लंघन भा0दं0वि0 की धारा 188 के अन्तर्गत दण्डनीय अपराध होगा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट