AMJA BHARAT एक वेब न्‍यूज चैनल है जिसे कम्‍प्‍यूटर, लैपटाप, इन्‍टरनेट टीवी, मोबाइल फोन, टैबलेट इत्‍यादी पर देखा जा सकता है। पर्यावरण सुरक्षा के लिये कागज़ बचायें, समाचार वेब मीडिया पर पढें

बुधवार, 6 मार्च 2019

जिला महिला चिकित्सालय में केएमसी वार्ड का डीएम ने किया उद्घाटन

फतेहपुर, शमशाद खान । जिला महिला चिकित्सालय में स्थापित केएमसी वार्ड का बुधवार को जिलाधिकारी संजीव कुमार सिंह एवं मुख्य विकास अधिकारी चांदनी सिंह ने फीता काटकर उद्घाटन किया। इस वार्ड के खुल जाने से अब कम वजन के शिशुओं को रखने की सुविधा मुहैया हो गयी है। उद्घाटन समारोह में मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 उमाकांत पाण्डेय व मुख्य चिकित्सा अधीक्षक प्रभाकर पाण्डेय ने भी शिरकत की। 
उद्घाटन समारोह के दौरान मुख्य चिकित्सा अधीक्षिका डा0 रेखारानी ने बताया कि कंगारू मदर केयर को प्री-मेच्योर बच्चों के लिए संजीवनी है। इसमें शासन की मंशा के अनुसार केएमसी वार्ड को तैयार किया गया है। साथ ही उन्होने यह भी बताया कि जन्म के समय जिन बच्चों का वनज 1800 ग्राम से ज्यादा एवं 2500 ग्राम से कम है। उन बच्चों को केएमसी दिया जाना जरूरी है। शिशु का तय समय से पहले जन्म और उसका पैदायशी वनज कम होने जैसे मामले अक्सर देखने में आते हैं। जिसे प्री मेच्योर बेबी कहा जाता है। ये सामान्य शिशु की तुलना में न केवल ज्यादा कोमल और कमजोर होते हैं बल्कि उनमें कई तरह का संक्रमण होने का खतरा रहता है। ऐसे में उनकी गहन देखभाल की जरूरत होती है। कंगारू देखभाल तय समय पहले जन्म लेने वाले या प्री-टर्म बेबी को कंगारू देखभाल एक कारगर तरीका है। जन्म के समय केएमसी प्रायः उन बच्चों को दिया जाता है। जिनका वनज 1800 ग्राम से ज्यादा एवं 2500 ग्राम से कम होता है। इससे बच्चे का विकास भी तेजी से होता है। केएमसी में शिशु की देखभाल उसकी मां के अलावा दादी, पिता, मौसी आदि भी कर सकती हैं। आदर्श स्थिति में शिशु को लगातार लम्बी अवधि तक मिलने वाली केएमसी अत्यंत लाभकारी होती है। केएमसी की अवधि एक बार में एक घण्टे कम नहीं होनी चाहिए तथा दिन में ज्यादा से ज्यादा केएमसी देना चाहिए। इस मौके पर वरिष्ठ परामर्शदाता डा0 पुष्पा गुरनानी, डा0 केवी चैधरी, डा0 पीके गुप्ता, डा0 अनामिका, डा0 गणनायक पाण्डेय, वरिष्ठ लिपिक शैलेष कुमार श्रीवास्तव, क्वालिटी मैनेजर डा0 हफीज अहमद, फार्मेसिस्ट अरूणेश चन्द्र सिंह, अजीत सिंह, उमेश कुमार, बृजेन्द्र कुमार, स्वास्थ्य पर्यवेक्षक धनीराम, राम मिश्रा, पंकज कुमार सहित सभी नर्सिंग स्टाफ मौजूद रहा। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Advertisement

Advertisement

लोकप्रिय पोस्ट